2022 चुनावो से पहले ही इस जिले के मुसलमानों के लिए बु’री ख’बर मृत बताकर हज़ारों …

November 24, 2021 by No Comments

जहां एक तरफ उत्तर प्रदेश में 2022 के चुनाव को लेकर तमाम पार्टियां मैदान में उतर चुकी हैं वहीं दूसरी तरफ मुजफ्फरनगर में मुस्लिम समाज के हज़ारो वोट मृतक दिखाकर काटे जाने की साजिश का खुलासा हुआ है जमीअत उलमा मुजफ्फरनगर का एक प्रतिनिधि मण्डल जमियत उलमा के प्रदेश सेक्रेटरी कारी जाकिर हुसैन कासमी के नेतृत्व मे जिलाधिकारी चंद्रभूषण सिंह से मिला मुख्य निर्वाचन आयुक्त भारत निर्वाचन आयोग के नाम ज्ञापन सौंपा है।

कारी जाकिर हुसैन ने इस साजिश का खुलासा करते हुए पूरे मामले की जांच कराने की मांग की उन्होंने कहा कि जमीयत उलमा हिन्द समस्त सामाजिक कार्यों में बढचढ कर हिस्सा लेती रही है इसी के मद्देनज़र एक नवम्बर से 30 नवम्बर तक जो वोट बनवाने काटने और करेक्शन कराने का कार्य चल रहा है उन्होंने बताया कि जमीयत मतदाता जागरुकता अभियान में प्रदेश भर में पूरा सहयोग कर रही है।

उन्होंने बड़ा खुलासा करते हुए कहा जनपद में विभिन्न स्थानों पर वोट बनवाने के दौरान ऐसे तथ्य सामने आये हैं कि किसी व्यक्ति विशेष द्वारा सैकड़ों लोगों के बारे में झूठी आख्या दी गयी है कि यह लोग शिफ्ट हो गये हैं या मिसिंग है या मृत्यु हो गई है इसके कुछ साक्ष्य भी दिए गए है नगर के आजाद हाई स्कूल की भाग सं० 29 पर सलमान हैदर (इपिक नं०IXK0285221) नामक व्यक्ति ने 219 लोगों के बारे में झूठी आख्या दी है जिसमें किसी को शिफटिड किसी को मिसिंग तो किसी को मृत दर्शाया गया है।

इसी प्रकार भाग सं0 59 में मौहम्मद शाहिद पुत्र तौफीक (इपिक नं० IXK1993674) ने 200 से अधिक लोगे की उपरोक्त की ही तरह झूठी आख्या दी है। भाग सं0 61 में 8 फार्म ऐसे मिले जिन्हें भाग सं0 59 में मौहम्मद सुहैल (इपिक नं० IXK1324300) के द्वारा झूठी आख्या देकर मृत दर्शाया गया जमियित कार्यकर्ताओं ने बी०एल०ओ० को साथ लेकर जब सम्बन्धित क्षेत्रों का सर्वे किया तो उनमें से ज्यादातर लोग अपने घरों पर उपस्थित मिले और जिनको मृत दर्शाया गया था उनमें से अक्सर लोग जीवित मिले । इसी तरह भाग सं० 27 व 28 में हुआ है। जनपद में विभिन्न स्थानों पर ऐसे मामले सामने आए हैं किसी व्यक्ति विशेष द्वारा बड़ी संख्या में लोगों के बारे में आख्या देना कहाँ तक उचित है यह जांच का विषय है।

 

धन्यवाद theReports

Leave a Comment

Your email address will not be published.