उत्तर प्रदेश में भले ही भारतीय जनता पार्टी ने धमा’केदार जीत हासिल की है। 403 विधानसभा सीटों वाली यूपी में भाजपा का परचम एक बार फिर से लहराया है। हालांकि इस बार उसकी सीटें 2017 के मुकाबले कम आई हैं लेकिन सत्ता हासिल करने के लिए जरूरी सीटें उसे मिल गई है।भाजपा ने इस चुनाव में अकेले दम पर 255 सीटें हासिल की है।

सीतापुर जेल में बंद सपा नेता आजम खान को एक और मामले में हाई कोर्ट से जमानत मिल गई है बीते सप्ताह लखनऊ में दर्ज हुए एक केस में जमानत मिलने के बाद अब हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच ने आजम खान को जल निगम भर्ती घोटाले में भी जमानत दे दी है.

अब आजम खान पर सिर्फ एक मामला शत्रु संपत्ति हथियाने का बचा है, जिस पर हाई कोर्ट में बहस पूरी हो चुकी है और फैसला आना बाकी है।समाजवादी पार्टी की सरकार में नगर विकास मंत्री और उत्तर प्रदेश जल निगम भर्ती बोर्ड के चेयरमैन रहे आजम खान के कार्यकाल में हुई जूनियर इंजीनियर भर्ती घोटाले में हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच ने आजम को जमानत दे दी है आजम खान वर्तमान में सीतापुर जेल में बंद है कल आए चुनावी नतीजों में आजम खान ने अपनी रामपुर सीट से जीत हासिल की है.

उन्होंने जेल से ही चुनाव लड़ा और रामपुर सदर से चुनाव जीत गए. इस तरह रामपुर सदर सीट से आजम खान लगातार दसवीं बार चुनाव जीत चुके हैं। आपको बता दें कि आजम खान के खिलाफ रामपुर सदर सीट पर भारतीय जनता पार्टी ने आकाश सक्सेना का उम्मीदवार बनाया था। आकाश सक्सेना ने ही आजम खान के खिलाफ कोई एफआईआर लिखवाई थी। एक रोचक तथ्‍य यह है कि रामपुर में आजम ने पूर्व मंत्री कांग्रेस उम्मीदवार नवाब काजिम अली को हराया और उनके बेटे ने काजिम के बेटे हमजा को मात दी। हमजा बीजेपी-अपना दल गठबंधन से कैंडिडेट थे।

शामली की कैराना विधानसभा को भाजपा ने प्रतिष्ठा बनाया हुआ था लेकिन यहाँ उसकी हार हुई है. यहाँ से सपा के नाहिद हसन चुनाव जीते हैं. नाहिद के मुक़ाबले भाजपा की मृगंका सिंह थीं जिन्हें 25 हज़ार से भी अधिक वोटों से हार मिली है. इस सीट पर भाजपा के कई बड़े नेताओं ने प्रचार किया था जबकि नाहिद ख़ुद जेल में हैं. उनकी बहन इकरा हसन ने प्रचार का ज़िम्मा संभाला था.