उत्तर पश्चिमी अफगानिस्तान में सर-ए-पुल शहर ता’लिबान के कब्जे में आ गया है पिछले तीन दिनों में तालि’बान के क’ब्जे में आने वाली यह चौथी प्रांतीय राजधानी है जबकि ताज़ा खबर के अनुसार अब तक पांच राज्य पूरी तरीके से तालिबान के क़ब्ज़े में आगये हैं सर-ए-पुल प्रांतीय परिषद के सदस्य मुहम्मद हुसैन मुजाहिदज़ादा के अनुसार, शहर के सभी हिस्से ता’लिबान के नियंत्रण में हैं।

इससे पहले तालिबान ने उत्तरी अफगान के बड़े शहर कुंदुज पर क’ब्जा कर लिया था। फ्रांस की न्यूज एजेंसी के मुताबिक तालिबान ने शहर की सभी प्रमुख इमारतों में पोजीशन ले ली है। यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि 2015 के बाद से, ये शहर तीन बार तालिबान के हाथों में आ चुका है।

कुंदुज प्रांतीय परिषद के सदस्य अमरुद्दीन वाली ने कहा कि शहर के विभिन्न हिस्सों में हर गली कूचों में ल’ड़ाई हो रही है। अमेरिकी अखबार टाइम्स के मुताबिक अमेरिकी सेना ने अफगानिस्तान के तीन शहरों में तालिबान के ठि’कानों को बी-52 और एसी-130 विमानों से नि’शाना बनाया। अखबार के अनुसार, इन जहाज़ों ने कतर से उड़ान भरी और कंधार, हेरात और हेलमंद में ता’लिबान के गढ़ों पर ब’मबारी की।

इस बीच, अमेरिकी रक्षा विभाग ने घोषणा की कि शेबर्गन शहर पर अमेरिकी हवाई हमलों में 200 से अधिक तालि’बान लड़ा’के मा’रे गए हैं आपको बता दें तालिबान ने शनिवार को शिबरगान पर कब्जा कर लिया था यह 24 घंटे में तालिबान के कब्जे में आने वाली दूसरी प्रांतीय राजधानी थी।

जोजज़ान के डिप्टी गवर्नर कादिर मालिया ने एएफपी को बताया, अफसोस कि बात ये है तालिबान ने शिबर्गन शहर पर क’ब्जा कर लिया, जबकि सरकारी बल और अधिकारी हवाई अड्डे की ओर भाग गए।”गौरतलब है कि जोजज़ान पूर्व सरदार अब्दुल राशिद दोस्तम का गढ़ है।

जनरल रशीद दोस्तम तुर्की में इलाज कराने के बाद इसी हफ्ते अफगानिस्तान वापस आया है । वह अपनी वफा’दारी बदलने और क्रू’रता के लिए जाने जाता है । अगर दोस्तम का गढ़ तालिबान के हाथों में रहा , तो यह अफगान सरकार के लिए आखिरी हिचकी होगी, जिसने कुछ समय पहले तालिबान की पेशकदमी को रोकने के लिए पूर्व सरदारों और विभिन्न मिलिशिया से मदद मांगी थी।