भाजपा को अखिलेश यादव ने दिया बड़ा करारा झटका, सपा में बड़ी तादाद में शामिल हुए..

April 12, 2021 by No Comments

साल 2022 में उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव के लिए समाजवादी पार्टी ने अभी से ही बढ़ चढ़कर तैयारियां शुरू कर दी है। हाल ही में समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने ऐलान किया था कि वह इस बार के विधानसभा चुनाव में किसी भी राजनीतिक दल के साथ गठबंधन नहीं करेंगे।

जिसका असर अब दिखना शुरू हो चुका है। बताया जा रहा है कि कल बहुजन समाज पार्टी और भारतीय जनता पार्टी के साथ-साथ कांग्रेस छोड़कर के वरिष्ठ नेताओं ने समाजवादी पार्टी का हाथ थाम लिया है। अखिलेश यादव ने समाजवादी पार्टी में शामिल हुए सभी नेताओं और उनके साथ आए कार्यकर्ताओं का स्वागत किया और उन्हें बधाई दी है।

उन्होंने कहा है कि इन सब नेताओं के साथ मिलकर अब समाजवादी पार्टी को और मजबूत बनाया जाएगा। आज भाजपा छोड़कर आये सियाना जिला बुलन्दशहर के पूर्व मंत्री उत्तर प्रदेश सरकार राकेश त्यागी, जिला पंचायत सदस्य फतेहाबाद आगरा हेमंत निषाद, बरेली के अधिवक्ता रामेन्द्र कश्यप, फिरोजाबाद अलीगढ़ के पूर्व संगठन मंत्री बृजेश कुमार गौतम।

अखिल भारतीय लोधी महासभा के प्रदेश अध्यक्ष उत्तम चन्द्र राकेश लोधी और कांग्रेस छोड़कर पूर्वमंत्री अनीसुर्रहमान शेरवानी के पुत्र अयाज शेरवानी, पूर्व विधायक अशरद खान पूरनपुर जिला पीलीभीत, अतरौली अलीगढ़ के पूर्व प्रत्याशी अश्वनी शर्मा, पूर्व जिलाध्यक्ष सम्भल बिमलेश कुमारी, पूर्व प्रत्याशी शाहजहांपुर ब्रह्मस्वरूप सागर, बदायूं के साजिद अली, प्रयागराज के तारिक सईद समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए।

कल समाजवादी पार्टी की सदस्यता ग्रहण समारोह में कांग्रेस के छात्र संगठन एनएसयूआई के पदाधिकारी भी बड़ी संख्या में समाजवादी पार्टी में शामिल हुए हैं जिनमें से प्रमुख हैं। सैय्यद फरहान अली प्रदेश उपाध्यक्ष, जाहिद गाजी जिलाध्यक्ष बदायूं, निखिल कुमार जिलाध्यक्ष बरेली एवं जसपाल सिंह जिलाध्यक्ष पीलीभीत।

इस अवसर पर सलीम शेरवानी पूर्व सांसद, नरेश उत्तम पटेल प्रदेश अध्यक्ष, अरविन्द कुमार सिंह एमएलसी, आईबी सिंह एडवोकेट की उपस्थिति उल्लेखनीय रही। उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव 2022 में साल भर से भी कम समय बचा हुआ है।

जा’तीय और ध’र्म के इर्द-गिर्द सिमटी राजनीति की धुरी बन चुके उत्तर प्रदेश में सियासी बिसात बिछाई जाने लगी है। सूबे की सत्ता में दोबारा से वापसी को बेताब सपा मुखिया अखिलेश यादव की नजर बसपा सुप्रियो मायावती के वोटबैंक पर है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *