अमित शाह को फ़ोन करने जा रहे नेता को भाजपा ने क्यूँ निकाला? ‘मुझसे एक बार बात तो…’

देश के पाँच राज्यों में चुनाव की घोषणा ने क्षेत्र के माहौल को चुनावी कर दिया है. एक पार्टी से आने दूसरे में जाने का सिलसिला लगातार चल रहा है. ताज़ा ख़बर उत्तराखंड से है जहाँ भाजपा को एक झटका लगता दिख रहा ही. ख़बर है कि भाजपा ने उत्तराखंड के वरिष्ठ नेता हरक सिंह रावत को पार्टी से 6 साल के लिए बाहर कर दिया.

पार्टी से बाहर होने पर उन्होंने जो रिएक्शन दिया वो चौंकाने वाला था. उन्होंने भाजपा नेताओं पर आरोप लगाया कि उन्होंने इतना बड़ा फ़ैसला लेने से पहले मुझसे एक बार बात भी नहीं की. उन्होंने कहा,”मैंने कभी खुद फैसला नहीं किया. परिस्थितियों ने निर्णय लेती हैं. बीजेपी को बचपन से पाला. यहां बीजेपी को बनियों की पार्टी कहा जाता था. गावों में लोग नाम लेने के लिए तैयार नहीं होते थे. मैंने स्कूटर से, जहां सड़कें नहीं थीं वहां पैदल जाकर बीजेपी को उत्तराखंड में खड़ा किया… मैंने लोगों को जोड़ना शुरू किया.”

उन्होंने कहा कि जब मैंने बीजेपी छोड़ी मेरे लिए बीजेपी नहीं राज्य का आंदोलन ज़रूरी था. उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया पर ऐसी बातें आयीं कि मैं दिल्ली आ रहा हूँ लेकिन दिल्ली में मैंने किसी कांग्रेसी नेता से कोई बात नहीं की थी. उन्होंने कहा कि मैंने दिल्ली में आकर अमित शाह को फोन मिलाया ही था कि किसी ने मुझसे कहा कि आपको पार्टी से निकाल दिया.

हरक सिंह रावत ने कांग्रेस ज्वाइन करने पर कहा, “आज मैंने कई लोगों से बातचीत की है. कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष जी का, विपक्ष के नेता का, प्रभारी का, हरीश रावत के बहुत करीबी लोगों का, सभी के आज फोन आए. बातचीत हुई है. उन्होंने उत्साह दिखाया है. स्वागत किया है और उन्होंने कहा है कि हम बातचीत कर रहे हैं. आज बातचीत हुई है. उन्होंने कहा है कि वो जो भी फैसला लेंगे, तो आज तय करेंगे.” उन्होंने ये भी कहा कि उत्तरांखड के लिए माफी मांगने को तैयार हूं.

बीजेपी से बाहर का रास्ता दिखाए जाने पर हरक सिंह रावत ने कहा था, “बीजेपी इतना बड़ा फैसला लेने से पहले मुझसे एक बार भी बात नहीं की. मुझे मंत्री बनने में ज्यादा दिलचस्पी नहीं है, मैं सिर्फ काम करना चाहता था.” हरक सिंह रावत ने भाजपा को चुनौती देते हुए कहा कि अब मैं निस्वार्थ होकर कांग्रेस को जीताने का काम करूंगा. हम पिछले पांच साल नौजवानों को रोजगार नहीं दे पाए, उत्तराखंड क्या नेताओं को रोजगार देने के लिए बनाया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.