पश्चिम बंगाल चुनाव को लेकर राजनिति पूरी तरह से गरमाई हुई है सभी पार्टिया सत्ता पाने के लिए अपना-अपना दाव खेल रही है बंगाल चुनाव में भाजपा और टीएमसी के बिच टक्कर दिख रही है भाजपा लगातार अपने दाव खेल रही है वही टीएमसी भी सत्ता को बचाने के लिए पूरा प्रयास कर रही है पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव में कुछ ही दिन बचे है सभी पार्टियों ने अपनी कमर कस ली है पश्चिम बंगाल चुनाव पर सभी की नज़रे टिकी हुई है सभी पार्टिया अपने चुनावी वादों से जनता को लुभाने का पूरा प्रयास कर रही है वही एक दूसरे पर निशाना साध रही है, इसी बिच भाजपा ने अपना घोषणापत्र जारी कर दिया है .

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी ने आज अपना घोषणापत्र जारी कर दिया है, घोषणापत्र जारी करते हुए केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने जोर देकर कहा कि सरकार बनने के बाद पहली कैबिनेट में ही नागरिकता संसोधन कानून लागू करेंगे, अमित शाह के इस ऐलान के बाद ममता बनर्जी की नींद उड़ गई है, चूँकि ममता शुरुवात से ही CAA विरोध कर रही हैं, इसके अलावा ज्यादातर मुस्लिम समुदाय भी CAA का विरोध कर रहे हैं..

घोषणापत्र जारी करते हुए अमित शाह ने कहा, कई वर्षों से संकल्प पत्र महज एक प्रक्रिया बनकर रह गया था। जब से भाजपा की सरकारें बनने लगीं तब से संकल्प पत्र का महत्व बढ़ने लगा क्योंकि भाजपा सरकारें बनने के बाद ही संकल्प पत्र पर सरकारें चलने लगी हैं। संकल्प पत्र में सिर्फ घोषणाएं नहीं हैं, बल्कि ये संकल्प है दुनिया के सबसे बड़े दल का, ये संकल्प है देश में 16 से ज्यादा राज्यों में जिसकी सरकार है उस पार्टी का, ये संकल्प है जिसकी पूर्ण बहुमत से लगातार दो बार बनी सरकार का।

महिलाओं को बड़ा तोहफा देते हुए अमित शाह ने कहा, राज्य सरकार की सभी नौकरियों में महिलाओं को 33% आरक्षण। पीएम किसान सम्मान निधि योजना का लाभ मिलेगा साथ ही 75 लाख किसानों को जो 18 हजार रुपये तीन साल से जो ममता दीदी ने नहीं पहुंचाया है वो सीधे किसानों को बैंक अकाउंट में देंगे। हर वर्ष किसानों को भारत सरकार का जो 6 हजार रुपये आता है उसमें राज्य सरकार का 4 हजार रुपया जोड़कर दिया जाएगा। मत्स्य पालकों को हर वर्ष 6 हजार रुपये दिए जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.