असम में बीजेपी प्रत्याशी की कार में ईवीएम मिलने के बाद से असम के साथ ही पूरे देश की राजनीति गरमाई हुई है. विपक्षी दल चुनाव आयोग और बीजेपी पर सवाल उठा रहे हैं. और भाजपा को चारो तरफ से घेरा जा रहा है. 1 अप्रैल गुरुवार को असम में मतदान के बाद करीमगंज जिले की पथरकंडी विधानसभा सीट से बीजेपी प्रत्याशी कृष्णेंदु पॉल की सफेद बोलेरो कार में ईवीएम मिली थी. हालांकि जो ईवीएम बीजेपी पथरकंडी से बीजेपी प्रत्याशी कृष्णेंदु पॉल की गाड़ी में मिली है, वो राताबारी विधानसभा के पोलिंग 149 की है.

आज तक से बातचीत में कृष्णेंदु ने बताया है कि उनके भाई गाड़ी से आ रहे थे और रास्ते में किसी ने लिफ्ट मांगी तो उन्होंने दे दी, गड़बड़ी का मकसद नहीं था. इस पूरे मामले पर गृहमंत्री अमित शाह का भी बयान आ गया है. इंडिया टुडे से बात करते हुए उन्होंने कहा है कि अगर असम के किसी बीजेपी नेता द्वारा कुछ गलत किया गया है, तो चुनाव आयोग को सख्त कारवाई करनी चाहिए.

गृह मंत्री ने का कहना है कि, मुझे इस मामले के बारे में विस्तार में जानकारी नहीं है. मैं कल दक्षिण भारत में चुनाव प्रचार में था. मैं जानकारी जमा कर रहा हूं. हमने चुनाव आयोग को कभी कोई कदम उठाने से नहीं रोका. अगर ऐसा कुछ हुआ है, तो चुनाव आयोग को नियमों के मुताबिक़ कारवाई करनी चाहिए. इसमें शामिल लोगों के खिलाफ़ सख्त कारवाई की जानी चाहिए.

वही इलेक्शन कमीशन ने बताया कि भले ही ईवीएम और वीवीपैट जैसी चीजें सील बंद पाई गई हैं, लेकिन फिर भी बूथ नंबर 149 इंदिरा एम.वी. स्कूल पर दोबारा वोटिंग कराई जाएगी. पीठासीन अधिकारी और 3 अन्य अधिकारियों को सस्पेंड भी किया गया है. इस मामले में पीठासीन अधिकारी को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है. पूछा गया है कि उन्होंने ट्रांसपोर्ट प्रोटोकॉल का उल्लंघन क्यों किया. मामले में स्पेशल ऑब्जर्वर से रिपोर्ट भी तलब की गई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.