आर्यन खान मामले में सामने आया सैम डिसूजा, 25 करोड़ की डील को लेकर कर डाला बड़ा खुलासा…

November 15, 2021 by No Comments

हाल ही में मुंबई क्रूज पार्टी के के मामले में शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को बॉम्बे हाईकोर्ट से जमानत मिली है।इस मामले में आर्यन खान को गिरफ्तार करने वाले नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के अधिकारी समीर वानखेडे को जान से हटा दिया गया है। जिसके बाद से ही एक के बाद एक कई बड़े खुलासे हो रहे हैं।

बताया जा रहा है कि आर्यन खान को छोड़ने के लिए 25 करोड़ की डीलिंग का खुलासा नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के ही गवाह प्रभाकर सैल ने किया है। उनका कहना है कि किरण गोसावी और शाहरुख खान की मैनेजर पूजा दलानी के बीच एक अहम कड़ी सैम डिसूजा था। अंडर ग्राउंड के सामने आकर एनडीटीवी से बातचीत की है।

 

सैम ने बताया है कि 1 अक्टूबर की रात सुनील पाटिल ने फोन करके उसका संपर्क किरण गोसावी से करवाया था। जो कि एक पावर ब्रोकर है। उसने एनसीबी से संपर्क निकालने के लिए कहा जिसके बाद सामने अधिकारी वी वी सिंह से बात की। वीवी सिंह ने टिप मिलने के बाद गोसावी को मिलने बुलाया। उसके बाद गोसावी और भानुशाली मिलने गए।

उसके बाद क्रूज पर रेड हुई और सबको पकड़कर एनसीबी दफ़्तर लाया गया। लेकिन उसने सिर्फ मिलवाया था उसके बाद उसका कोई रोल नहीं था। सैम ने बताया कि बाद में उसने दोनों की परेल में मुलाकाल करवाई लेकिन उनमें क्या बात हुई ये पता नहीं।

सैम ने किरण गोसावी और उसके बीच फोन पर 25 करोड़ की डील 18 करोड़ में फाइनल करने और उसमे से 8 करोड़ समीर वानखेड़े को देने की बातचीत से इनकार किया।

सैम का कहना है कि गोसावी ने अपने फोन में प्रभाकर साइल का नंबर SW2 नाम से सेव कर रखा था। उसकी गाड़ी में पुलिस का बोर्ड था और खुद को वह NCB का अफसर बता रहा था। उसने कहा कि ये सब गोसावी, सुनील पाटिल ने मिलकर व’सूली का कांड किया था। उसका उसमें कोई रोल नहीं था, अगर होता तो बातचीत में उसके हिस्से का भी जिक्र होता।

ये पूछने पर कि फिर 50 लाख जो एडवांस दिया गया था वो वापस आप क्यों लेने गए? सैम ने कहा कि ”सुनील पाटिल ने उसे बोला कि गोसावी ने 50 लाख रुपये ले लिए हैं। तब मैं शॉ’क हो गया। उसने कहा कि पाटिल ने प्रभाकर से मुझे पैसे लेने को कहा जो मैंने LIC बिल्डिंग के सामने लिए, फिर जिस तक पहुंचाना था उसे पंहुचा दिया. उसमें मेरा कोई रोल नहीं है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *