लखनऊ: समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता आज़म ख़ान की तबीअत के बारे में अस्प’ताल ने बताया है कि उनकी से’हत पहले की तुलना में थोड़ी ख़राब हुई है. मेदान्ता हॉस्पिटल में भर्ती कोरोना संक्रमित पूर्व मंत्री व सपा के वरिष्ठ नेता सांसद आजम खान के फेफड़ों में फाइब्रोसिस के चलते सोमवार को ऑक्सीजन का स्तर पहले से कुछ कम हुआ है। इस वजह से उन्हें ऑक्सीजन सपोर्ट 2 लीटर से बढ़ाकर पांच लीटर प्रति मिनट कर दिया गया है।

उत्तर प्रदेश राजनीति के बड़े नेता माने जाने वाले आज़म की सेह’त ना’जुक है लेकिन नियंत्रण में है। आजम खान के सिटी स्कैन व अन्य जांचों में फेफड़ों में फाइब्रोसिस व कैविटी निकली है। जिसके चलते डॉक्टरों ने ऑक्सीजन की मात्रा बढ़ा दी है, जबकि बेटे मो. अब्दुल्ला खान की तबीयत संतोषजनक है। संक्रमित पूर्व मंत्री आजम खान व उनके बेटे अब्दुल्ला सीतापुर जेल में बन्द में थे।

जेल में तबीयत बिगड़ने पर जेल प्रशासन ने नौ मई को लखनऊ के मेदान्ता अस्पता’ल में भर्ती कराया था। मेदान्ता हॉस्पिटल के मेडिकल डायरेक्टर डॉ. राकेश कपूर ने बताया कि आजम खान की तबीयत गम्भीर है लेकिन नियंत्रण में है। विशेषज्ञ डॉक्टरों की निगरानी में इलाज चल रहा है। समाजवादी पार्टी इस मामले में पूरी तरह से सक्रिय है और सरकार तथा डॉक्टरों से संपर्क में है.

वहीं मेदान्ता में भर्ती आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सचिव और वरिष्ठ अधिवक्ता ज़फ़रयाब जिलानी की भी से’हत में सुधार हुआ है. वो पहले वेंटीलेटर सपोर्ट पे थे लेकिन अब वेंटीलेटर सपोर्ट हटा लिया गया है और उन्हें ICU में रखा गया है. कोरोना संक्रमण के चलते उन्हें कोविड वार्ड में रखा गया है। बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी के संयोजक रहे वरिष्ठ अधिवक्ता जफरयाब जिलानी गुरुवार शाम घर में अचानक गिर गए थे।

जिसकी वजह से उनके सिर में गम्भीर चो’ट लग गई थी। जिसके चलते उनके दिमाग के अगले हिस्से में खून का थक्का जम गया था। डॉक्टरों ने 21 मई को जफरयाब जिलानी का सफल ऑपरेशन कर दिमाग मे जम गए खून के थक्के को निकाला गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.