चुनाव के पहले ही चरण में मतदाताओं ने सनसनीखेज आरोप लगाया है। पूर्व मेदिनीपुर के दक्षिण कांथि विधानसभा क्षेत्र के 71 नंबर बूथ के कुछ मतदाताओं ने आरोप लगाया कि टीएमसी के चुनाव चिन्ह वाली बटन दबाने से बीजेपी को वोट जा रहा है। मतदाताओं के इस आरोप के बाद उक्त बूथ पर मतदान प्रक्रिया रोक दी गई है। टीएमसी ने चुनाव आयोग में शिकायत की है। आरोप है कि बीजेपी ईवीएम हैक कर वोट लूट कर रही है।

शनिवार सुबह बूथ से निकले कई मतदाताओं ने कहा कि उन्होंने टीएमसी को वोट दिया लेकिन वह बीजेपी को जा रहा है। यहां तक की वीवीपैट से भी बीजेपी का कागज निकला है। इसके बाद ही तृणमूल समर्थकों ने बूथ के बाहर प्रदर्शन करना शुरू कर दिया। स्थानीय तृणमूल कार्यकर्ताओं का दावा है कि अमित शाह और शुभेंदु अधिकारी के नेतृत्व में वोट चोरी करने की कोशिश की जा रही है। ईवीएम नहीं बदला गया तो वोट नहीं करने देंगे।

स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए केंद्रीय बल के जवानों को कड़ी मेहनती करनी पड़ रही है। स्थिति को देखते हुए वोटिंग बंद कर दी गई है। वहीं प्रेसाइडिंग अधिकारी ने दावा किया है कि इस प्रकार का आरोप बिल्कुल गलत है। वोटरों ने वीवीपैट देखा फिर भी आरोप लगा रहे हैं। पिछले कुछ वर्षों में, तृणमूल कांग्रेस सहित कई राजनीतिक दलों ने देश में ईवीएम की विश्वसनीयता पर सवाल उठाए हैं। इससे पहले, तृणमूल सुप्रीमो ममता बनर्जी ने सभी कार्यकर्ताओं और समर्थकों से अपील की थी कि वे वोट डालने के बाद ईवीएम और वीवीआईपी की अच्छी तरह से जाँच करें।

उन्होंने बूथ कार्यकर्ताओं से यह भी ध्यान रखने को कहा कि आम जनता मतदान कर रही है या नहीं। और मतदान के बाद, उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं को ईवीएम की रक्षा करने का निर्देश दिया है। इसी बीच कांथी दक्षिण विधानसभा क्षेत्र के क्षत्रमोहन विद्या भवन में चार बूथों में तीन बूथों में ईवीएम काम नहीं कर रही। ऐसे में सुबह से ही लाईन लगी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.