टीएमसी में वापसी करना चाहते हैं सुवेंदु अधिकारी , ममता के दांव से भाजपा सदमे..

तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के प्रवक्ता कुणाल घोष ने दावा किया कि बंगाल विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष सुवेंदु अधिकारी टीएमसी में वापसी के इच्छुक हैं क्योंकि भाजपा में उनका दम घुटने लगा है। घोष ने संवाददाताओं से कहा कि भाजपा में शामिल होने के बाद राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और तृणमूल कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बनर्जी के खिलाफ सुवेंदु की अपमान जनक टिप्पणियों के कारण पार्टी उन्हें वापस नहीं लेगी।

दूसरी ओर बंगाल विधानसभा चुनाव से पहले दिसंबर 2020 में टीएमसी छोड़कर भाजपा में शामिल होने वाले सुवेंदु अधिकारी ने कहा कि वह उन लोगों की टिप्पणियों का जवाब नहीं देते, जो भ्रष्टाचार के मामलों में आरोपित हैं।

बिधाननगर निकाय चुनाव में टीएमसी उम्मीदवार सब्यसाची दत्ता को गिरगिट बताते हुए अधिकारी ने हाल ही में कहा था कि दत्ता को विधानसभा चुनाव के लिए टिकट देना भाजपा की भूल थी।

दत्ता ने 2019 में टीएमसी छोड़ दी थी और 2021 के विधानसभा चुनावों में भाजपा के उम्मीदवार के रूप में हार का सामना करना पड़ा था और बाद में वह टीएमसी में लौट आए। भाजपा नेता सुवेंदु द्वारा दत्ता की आलोचना से जुड़े सवाल पर घोष ने कहा कि सुवेंदु मानसिक अव,साद से पी,ड़ित हैं क्योंकि भाजपा में शामिल होने के पीछे जो उनके सपने थे, वे कुचल दिए गए हैं।

हमारे पास जानकारी है कि वह उन दो-तीन अन्य नेताओं के साथ टीएमसी में वापस आना चाहते हैं, जिन्हें वह अपने साथ ले गए थे। उन्होंने कहा, लेकिन, सुवेंदु जैसे लोगों के लिए हमारे दरवाजे बं,द हैं।

भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दिलीप घोष ने तंज कसते हुए कहा कि टीएमसी की हालत वर्तमान में सास-बहू जैसी हो गई है। टीएमसी की गुटबाजी बढ़ती जा रही है। पार्टी ममता और अभिषेक की दो टीमों में बंटी हुई है।

टीएमसी की हालत सास-बहू जैसी हो गई है। बताते चलें कि ममता बनर्जी और उनके भतीजे अभिषेक के बीच स्थानीय निकाय चुनावों में टिकट बंटवारे को लेकर मतभेद की खबरें आ रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.