अफगानिस्तान में हालात तेजी से बदल रहे हैं बड़े-बड़े कमांडर या तो मार दिए गए हैं या तालिबान की कैद बना लिए गए है अंतर्राष्ट्रीय फौज और अमेरिकी फौज की वापसी के ऐलान के बाद तालिबान ने जिस तेजी के साथ अफगानिस्तान पर कब्जा करना शुरू किया है ऐसा मालूम होता है इसी महीने की आखिरी तक पूरे अफगानिस्तान पर तालिबान का कब्जा हो जाएगा जबकि अमेरिकी रिपोर्ट में भी कहा गया है एक महीने के अंदर ही तालिबान काबुल पर हम’ला कर सकते हैं।

वही पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई सरकार में मंत्री रहे इस्माइल खान जो हिरात में तालिबान का रास्ता रोके हुए थे जिन्होंने ऐलान किया था आखरी दम तक तालिबान के खिलाफ लड़ेंगे तालिबान ने आज उनको गिरफ्तार कर लिया है और हेरात, शहर पर तालिबान का कब्जा हो गया है आपको बता दें 1997 में भी तालिबान ने इन को बंधक बनाया था लेकिन दो साल बाद और कंधार में तालिबान के चंगुल से भाग निकले थे उन्होंने अमेरिकी सेना के साथ मिलकर तालिबान के खिलाफ बड़ा अभियान छेड़ा था।

इस्माइल खान वो है जो सोवियत संघ के खिलाफ भी जंग लड़ चुके हैं और इनकी अफगानिस्तान में बहुत इज्जत है इस्माइल खान के साथ तालिबान ने काबुल के कुछ अधिकारियों और दो हेलिकाप्टर भी अपने कब्जे में ले लिए हैं सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक अधिकारियों को कई जगहों से उठाया गया है हैरत उस वक्त हुई जब इस्माइल खान की गिरफ्तारी के बाद तालिबान लड़ाकों ने इनके साथ सेल्फियां ली ।

गिरफ्तारी के बाद इस्माइल खान ने अपने हामियों और अफगान सरकार से अपील की है अमन कायम करने के लिए लड़ाई को रोक दें कमांडर इस्माइल खान हेरात में एक समारोह को संबोधित करते हुए कही उन्होंने अपने समर्थकों से सहयोग करने और अफगान नेतृत्व से शांति बनाने का आह्वान किया आज का दिन तालिबान के लिए अच्छा साबित हुआ उन्होंने आज नौ प्रांतों पर कब्जा कर लिया है कई प्रांत तो बगैर लड़े ही उनके कब्जे में चले गए।