बिहार की सिया’सत इन दिनों काफी गरमा रही है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को लेकर लोक जनशक्ति पार्टी के अध्य्क्ष चिराग पासवान (LJP President Chirag Paswan) के तल्ख तेवर कभी भी बरकरार हैं। पार्टी नेताओं को लोजपा कार्यालय में पार्टी की अहम बैठक में चिराग ने संबोधित किया और कोरो’ना, बाढ़ और रोजगार के मुद्दे पर पार्टी की रणनीति के बारे में टिप्स दिए। इस सब के बीच चिराग द्वारा एक बार फिर अपने नेताओं से दो टूक कहा गया कि, कोरो’नाकाल में स्वास्थ्य विभाग और बिहार सरकार (Bihar government) की कोई भी कमी हो को बिना डरे इसे उजागर कीजिए, चिराग पासवान आपके साथ खड़ा है। चिराग पासवांन ने कहा कि उन्हें बिहार के लोगों की चिंता है।

इस सब माहौल के बीच खबर है कि, लोजपा जल्द ही संसदीय बोर्ड की बैठक बुलाएगी और पार्टी का अगला राजनीतिक कदम क्या होगा इस पर फैसला किया जाएगा। सूत्रों के हवाले से ये भी बताया गया है कि, चिराग़ ने पार्टी नेताओं से बैठक में जेडीयू के साथ गठबंधन पर भी फैसला लिए जाने की बात कही है। इस सब के बीच एक नई राजनीतिक घ’टनाक्रम भी हुई है। सूत्रों की हवाले से खबर मिली है कि, शुक्रवार की रात को देर रात चिराग़ पासवान और पप्पू यादव ने मुलाकात की और करीब चार घंटे दोनों के बीच बंद कमरे में बातचीत होती रही।

अब माना जा रहा है कि अगर पप्पू यादव और चिराग पासवान दोबो के बीच बात बन जाती है तो हो सकता है कि बिहार में कोई थर्ड फ्रंट की भी सूरत बन जाए। उसमें सपा, बसपा के साथ-साथ कोई छोटे दल भी शामिल हो सकते हैं। लेकिन अभी तक चिराग और पप्पू की बात का नतीजा क्या रहा ये अभी तक सामने नही आया है, मगर राजनीतिक जानकारों का मानना है कि, अगर ऐसा होता है तो बिहार की सियास’त में बड़ा बदला’व देखने को मिल सकता है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और चिराग पासवान के बीच चल रही तल्खी के बीच चिराग पासवान द्वारा भारतीय जनता पार्टी के प्रमुख जेपी नड्डा से गुरुवार को मुलाकात की गई थी और इस मुद्दे के साथ-साथ बहुत से दूसरे मुद्दों पर भी बातचीत की थी। इस सब के बाद लोजपा अध्यक्ष द्वारा शनिवार को लोजपा के पटना कार्यालय में पार्टी नेताओं की बैठक बुलाई गई थी।

चिराग पासवान द्वारा नीतीश पर किए गए हमले को लेकर जदयू नेता और सांसद ललन सिंह ने हाल ही में चिराग पासवान की तुलना कालिदास से करते हुए कहा था कि, वे जिस पेड़ पर बैठे हैं उसी की डाल को काट रहे हैं। उनके इस बयान के बाद लोजपा द्वारा भी जदयू को सूरदास कहा गया था। शनिवार को होने वाली बैठक में भी ये मुद्दा उठा और नवादा के सांसद चंदन कुमार ने तल्ख तेवर दिखाते हुए कहा कि, उनके राष्ट्रीय अध्यक्ष के बारे में बोला जायेगा तो वे भी चुप नहॉ बैठेंगे।

सूत्रों के हवाले से पता चला है कि, इस मुद्दे पर चिराग द्वारा लल्लन सिंह को प्रतिक्रिया दी गई और लल्लन सिंह को संबोधित करते हुए कहा कि, आप सम्मानित नेता हैं मुझे कालिदास कहते हैं कहिए, लेकिन उन्हें ये नहीं भूलना चाहिए कि जहां से वो सांसद चुने गए हैं उनके संसदीय क्षेत्र का 1 विधानसभा क्षेत्र उन्हीं के जमुई लोकसभा के अंदर ही आता है। सबके सहयोग के बिना जीत संभव नहीं,बाकी कोई मुझे कुछ भी बोले कोई फर्क मुझे नहीं पड़ता।

Leave a Reply

Your email address will not be published.