भाजपा अध्यक्ष ने की यूपी के मंत्रियों से मुलाकात, एक बड़े मंत्री की कुर्सी जाना तय!

June 17, 2021 by No Comments

उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले राज्य में सियासी उठापटक का दौर शुरू हो चुका है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के मंत्रिमंडल में जल्द ही विस्तार होने वाला है। भारतीय जनता पार्टी आलाकमान कैबिनेट विस्तार से पहले सहयोगी दलों और अपने वरिष्ठ नेताओं के साथ बैठक कर उत्तर प्रदेश के मंत्रियों के कामकाज की समीक्षा कर रही है।

इसी बीच खबर सामने आई है कि भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने उत्तर प्रदेश के मंत्रियों को बुलाकर उनसे मुलाकात की है। जिसमें यह कहा जा रहा है कि एक बड़े मंत्री की कुर्सी जाना तय माना जा रहा है। इसके साथ ही कंफर्म्स करने वाले कुछ और मंत्रियों की कुर्सी पर भी संकट के बादल मंडराते हुए नजर आ रहे हैं।

यही नहीं मोदी सरकार की कैबिनेट विस्तार में सहयोगी दलों के नेताओं को भी मंत्री पद दिया जा सकता है। अभी पिछले दिनों से ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दो दिन के दिल्ली दौरे से वापस लौटे हैं। सीएम योगी ने पीएम मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात कर यूपी चुनाव और कैबिनेट को लेकर चर्चा की थी।

जिसके बाद बीजेपी अध्यक्ष अब यूपी के मंत्रियों को बुलाकर उनसे मुलाकात की है। बताया जा रहा है कि मोदी सरकार के संभावित कैबिनेट विस्तार, कोरोना नियंत्रण और अगले साल कई राज्यों में चुनाव को देखते हुए बीजेपी शीर्ष नेतृत्व की लगातार बैठकें चल रही हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार की शाम वरिष्ठ केंद्रीय मंत्रियों के साथ बैठक की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने आवास पर केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, सड़क परिवहन एवं राजमार्ग नितिन गडकरी और भाजपा अध्यक्ष जे.पी. नड्डा के साथ मीटिंग की। सूत्रों के मुताबिक इस बैठक में मंत्रिपरिषद के कार्यों की समीक्षा हो रही है।

आपको बता दें कि इससे पहले भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और गृह मंत्री अमित शाह ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मुलाकात की थी। दरअसल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ भी बैठक की है।

अगले साल उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर भारतीय जनता पार्टी के शीर्ष नेतृत्व की है बहुत ही अहम बैठक मानी जा रही है। इसमें उत्तर प्रदेश चुनाव की रणनीति पर मंथन किया गया था। क्योंकि भाजपा याचिका से तरीके से जानती है कि उत्तर प्रदेश में 2022 की सफलता पर ही साल 2024 के लोकसभा चुनाव की सफलता टिकी हुई है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *