भाजपा को लगा झ’टका, मनोज तिवारी अखिलेश यादव की मौजूदगी हुए सपा में शामिल अब…

October 4, 2021 by No Comments

2022 विधानसभा चुनाव की तैयारी को लेकर सारी पार्टियां ने तोड़ जोड़ शुरू कर दिया है इस इसी कड़ी में आज समाजवादी पार्टी में बसपा, भाजपा, अपना दल, कांग्रेस और दो अन्य राजनीतिक गुटों के कई शीर्ष नेता समाजवादी पार्टी शामिल हो गए इन नेताओं ने सपा प्रमुख अखिलेश यादव की मौजूदगी में पार्टी की सदस्यता ली वहीं दोसरी तरफ कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश में पार्टी को मजबूत करने की कोशिश के तहत प्रदेश के दौरा कर रही हैं।

सबसे बड़ा झटका कांग्रेस को लगा है उसके की नेता सपा में शामिल हुए हैं जिसमें प्रदेश इकाई के उपाध्यक्ष गयादीन अनुरागी का नाम है जिन्होंने शुक्रवार को समाजवादी पार्टी का दामन थाम लिया।समाजवादी पार्टी के एक संवाददाता सम्मेलन में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव की मौजूदगी में सपा में शामिल हुए।
यहां महोबा, जालौन और हमीरपुर के बड़े कांग्रेसी नेताओं ने सपा का दामन थाम लिया।बुंदेलखंड के जिन नेताओं ने कांग्रेस छोड़ी है, उनमें हमीरपुर के राठ से पूर्व विधायक गयादीन अनुरागी, महोबा के दिग्गज कांग्रेसी नेता मनोज तिवारी और जालौन-उरई से पूर्व विधायक रहे विनोद चतुर्वेदी के नाम शामिल हैं।

भाजपा को उस वक़्त बड़ा झटका लगा जब जौनपुर निवासी, प्रदेश के बड़े समाजसेवी श्री विनोद मिश्रा ने भाजपा छोड़कर समाजवादी पार्टी में शामिल हुए। हमीरपुर जिले से गयादीन अनुरागी शुरुआत से बसपा में रहे थे और फिर 2012 के विधान सभा चुनाव में उन्होंने कांग्रेस के टिकट से हमीरपुर जिले की राठ ( सुरक्षित) विधान सभा से चुनाव लड़ा, इसमें वे 1 लाख वोट से जीतकर विधायक चुने गए हालांकि, 2017 के विधानसभा चुनाव में उन्हें हार का सामना करना पड़ा।इस चुनाव में भाजपा की मनीषा अनुरागी ने जीत हासिल की माना जा रहा है कि 2022 में सपा गयादीन अनुरागी को टिकट दे सकती है।

कांग्रेस नेता मनोज तिवारी के पिता बाबूलाल तिवारी महोबा सीट से कांग्रेस से पांच बार विधायक रहे। बाबूलाल तिवारी का बहुत बड़ा नाम और कांग्रेस में बड़ा कद था। उनके बेटे मनोज तिवारी भी अभी पिता की विरासत को संभाले कांग्रेस में डटे हुए थे। लेकिन अचानक शुक्रवार को उन्होंने समाजवादी पार्टी की सदस्यता ले कर सभी को चौंका दिया।

Leave a Comment

Your email address will not be published.