किसान आंदोलन के बाद से मनो भाजपा की उलटी गिनती स्टार्ट हो गई हो, हाल ही में हुए पंजाब निकाय चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को एक बड़ा झटका लगा था, दरअसल किसान आंदोलन के चलते पंजाब के लोगों में भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ पहले से ही गुस्सा था, जिसका नतीजा निकाय चुनाव में देखने को मिला है.

पंजाब में इस बार भारतीय जनता पार्टी की एक तरफा हार हुई है, इसी बीच अब मिजोरम से भी भाजपा के लिए बड़ी खबर सामने आ रही है, बताया जा रहा है कि मिजोरम में सत्तारूढ़ मिजो नेशनल फ्रंट ने आइजोल और नगर निगम चुनाव में 19 वार्ड में से 11 में जीत हासिल की है.

एमएनएफ ने साल 2015 में नगर निगम के चुनाव में इतनी बड़ी सीटों पर जीत हासिल की थी, कहा जा रहा है कि इस चुनाव के लिए हुए मतदान के बाद कल नतीजे घोषित किए गए हैं, नतीजों के मुताबिक मुख्य विपक्षी पार्टी जोराम पीपल्स मूवमेंट को सिर्फ 6 सीटें कांग्रेस को मात्र 2 सीटें मिली हैं, भाजपा ने 9 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे थे लेकिन भाजपा एक भी सीट जीतने में कामयाब नहीं हुई है.

चुनाव में सात निवर्तमान पार्षद (एमएनएफ-पांच और कांग्रेस-दो) फिर से निर्वाचित हुए हैं जबकि जनता ने नए चेहरों को मौका दिया है 12 नए चेहरे को जनता ने इस बार मौका दिया है, महिलाओं के लिए आरक्षित छह सीटों में से जेपीएम को पांच जबकि एमएनएफ को एक सीट मिली है, इस बार जनता ने आठ महिला उम्मीदवारों और 11 पुरुष उम्मीदवारों ने जीत हासिल कराया है.

आपको बता दें कि एमएनएस के उपमहापौर ने जी पीएम के उम्मीदवार को हराया है, कहा जा रहा है कि कांग्रेस नेता रोसियामघेटा ने एमएनएफ उम्मीदवार रोचुंगा राल्टे को हराकर लगातार तीसरी बार जीत हासिल की, मुख्यमंत्री और एमएनएफ अध्यक्ष जोरामथंगा ने जीत पर प्रसन्नता जतायी है, उन्होंने एएमसी में एमएनएफ को फिर से सत्ता में लाने के लिए लोगों का शुक्रिया अदा किया है, मिजोरम से पहले पंजाब में आए निकाय चुनाव के नतीजों ने भी भारतीय जनता पार्टी को पूरी तरह से निराश करने का काम किया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.