भारत में जारी लॉ’क डा’उन के दौरान राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में केजरीवाल सर’कार द्वारा सभी सांसदों और विधायकों को गरी’ब और जरूर’तमंदों के बीच बाँ’टने के लिए दो-दो हजार खाद्य कूपन दिए जाने की यो’जना बीजेपी के नेताओ को प’संद नहीं आई। जिसके चलते उन्होंने इस योजना को “ज’टिल एवं देर से लाया गया” क’रार कर दिया। बता दें कि पूर्वी दिल्ली में बीजेपी के सां’सद गौतम गंभीर ने कूपन लेने से साफ इं’कार कर दिया और साथ ही जरूरतमं’दों तक राशन पहुंचाने की बात भी की।

गौतम गंभीर ने अपने ट्विटर अकाउंट से ट्वीट करते हुए कहा “दो हजार राशन कूपनों के लिए शुक्रिया  केजरीवाल जी, लेकिन मेरे कार्यकर्ताओं के पास जरूरत के अनुसार वि​त’रित करने के लिए पर्याप्त खाद्य साम’ग्री है। इन्हें कृपया इला’के के ​विधायकों एवं पार्षदों को दे दीजिए। अगर ज’रूरत पड़ती है, तो मैं उन लोगों को और रा’शन भेज सकता हूं जो वि​त’रित करना चाहते हैं। कृप’या मुझे जान’कारी दें।” वहीं बीजेपी के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा कि उन्हें इस यो’जना से संबं’धित कोई भी जा’नकारी नहीं दी गई है।

मनोज तिवारी का कहा कि “दिल्ली सरकार से मुझे न तो कोई कूपन मिला है और न ही कोई सू’चना मिली है। यह कद’म थोड़ा देर से उठाया गया है, क्योंकि लॉ’कडा’उन तीन मई को समा’प्त हो सकता है।” बता दें कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल द्वारा घो’षणा कि गई थी कि सर’कार सभी विधायकों और सांसदों को दो-दो ह’जार खाद्य कू’पन देगी ताकि लॉ’क डा’उन के दौरान वह जरूरतमंदों तक ये कू’पन पहुंचा सके। खाद्य कूपन योजना को लेकर दिल्ली विधानसभा में वि’रो’धी नेता रामवीर सिंह वि’धूड़ी ने कहा कि “आपातकालीन खाद्य कूपन वि​त’रित करने की प्रक्रिया ज’टिल है, जिससे लाभार्थियों तक मदद पहुंचने में विलं’ब होगा।” बता दें कि दिल्ली में बीजेपी के सात लोकसभा सदस्य और आठ विधायक हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published.