CAA का विरो’ध देश भर में हो रहा है ऐसे में बॉलीवुड के कई लोग जहाँ अपना फ़ायदा सोचकर चुप्पी साधे बैठे हैं वहीं कुछ लोग ऐसे भी हैं जिनके लिए अपने किसी प्रोजेक्ट या फ़िल्म से पहले देश आता है। ऐसी ही सोच है निर्देशक एच ई अमजद ख़ा’न की भी। अमजद ख़ा’न जो पिछले दिनों CAA के विरोध में किए अपने ट्वीट्स के कारण सुर्ख़ियो में बने हुए हैं।

उन्होंने अपने ये वि’चार अपने एक ट्वीट के ज़रिए शेयर किए थे जिसमें उन्होंने लिखा था कि “वैसे तो मैं फ़िल्म डायरेक्टर हूँ और किसी भी डायरेक्टर के लिए उसकी आने वाली फ़िल्म सबसे ज़्यादा महत्वपूर्ण होती है लेकिन उससे पहले मैं देशभक्त हूँ इसलिए अभी सबसे पहले देश है उसके बाद फ़िल्म,देश और संविधान रहेगा तो फ़िल्में कभी भी बना लूँगा लेकिन अगर देश ही नहीं रहा तो..?” फ़िल्म से पहले देश की बात सोचने वाले अमजद ख़ान के लिए उनके ट्वीट्स मुश्कि’लें ख’ड़ी करने में कोई क’मी नहीं छो’ड़ रहे हैं।

आपको बता दें कि अमजद ख़ान को जा’न से मा’रने की ध’मकी मिल रही हैं। वो हाँ ही में JNU जाकर भी आए, इन धम’कियों के बारे में उनका कहना है कि वो इन सारी बातों से नहीं डरते क्योंकि वो जो भी कर रहे हैं उसमें ईमानदारी है। अमजद ख़ान द्वारा निर्देशित फ़िल्म “गुलमकई” इस महीने की आख़िरी तारीख़ यानी 31 जनवरी की रीलिज़ होने वाली हैं। ये फ़िल्म पाकि’स्तानी एक्टिवि’स्ट मलाला युसूफ़ज़ई की ज़िन्दगी पर आधारित है।

फ़िल्म के ट्रेलर लॉंच के बाद से ही फ़िल्म पर भी वि’वाद शुरू हो गया क्योंकि पश्तून समाज का कहना है कि फ़िल्म के ज़रिए उनकी छवि बिगा’ड़ने की कोशिश की जा रही है। अमजद ख़ान का कहना है कि इस प्रोजेक्ट के दरम्यान कई धम’कियाँ मिलीं लेकिन उनके मन में इस तरह का विचार कभी नहीं आया कि वो ये प्रोजेक्ट छो’ड़ें क्योंकि उन्हें इस बात का यक़ीन है कि मलाला के बारे में बहुत लोग जानते हैं लेकिन उनको जब तालिबान ने गो’ली मा’री उसके पहली की उनकी ज़िन्दगी के बारे में लोगों को अभी भी कुछ नहीं पता है।

gulmakai

ख़ान ने कहा कि ये फ़िल्म मलाला की पहले की ज़िन्दगी के बारे में बताती है और उन वाक़यात का ज़िक्र करती है जब वो स्वाट में रह रहीं थीं। संयुक्त राष्ट्र ने गुलमकई की स्क्रीनिंग एक साल पहले लन्दन में की थी। अमजद ने बताया कि उन्हें इस स्क्रीनिंग के दौरान शानदार रेस्पोंस मिला, लोगों ने उनकी फ़िल्म को स्टैंडिंग ओवेशन दिया। अमजद बताते हैं कि मलाला के पिता ने भी ये फ़िल्म देखी है और उन्हें ये फ़िल्म पसंद आयी है और वो अपने आँसू रोक नहीं पाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.