आला हजरत के सलमान मियां ने की CM योगी से मुलाकात, शुरू हुआ वि’वाद… जुम्मे की नमाज से पहले..

August 1, 2021 by No Comments

जैसे-जैसे उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव नजदीक आ रहे हैं। वैसे वैसे सभी राजनीतिक दलों की सक्रियता भ’ड़क गई है। भारतीय जनता पार्टी और समाजवादी पार्टी राज्य में वेरी शुरू से प्रचार-प्रसार में जुट गई है।

इसी बीच खबर सामने आई है कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश के बरेली की दरगाह आला हजरत से जुड़े सलमान मियां से मुलाकात की है। जिसने सियासी गलियारों में हलचल सी मचा दी है। माना जा रहा है कि उत्तर प्रदेश के मुस्लिम वोट बैंक को भाजपा के पाले में लाने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मुलाकात को किया है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की एक फोटो सोशल मीडिया पर काफी वा’यरल हो रही है। जिसके बाद आला हजरत खानदान के बीच एक बार फिर से सार्वजनिक वि’वाद शुरू हो गया है। दरअसल जुम्मे की नमाज से पहले आलाहजरत खानदान के सबसे बड़े बुजुर्ग मौलाना मन्नानी मियां की बताई जा रही ऑडियो वा’यरल हुई है।

कथित तौर पर उस वा’यरल ऑडियो में मौलाना मन्नानी मियां काजी उल कुजात और उनके दामाद की जमकर मुखालफत कर रहे हैं।
उन्होंने कहा कि आज मेरे भाई ताजुश्शरिया होते तो उन्हें बहुत अफसोस होता। तौकीर मियां ने गलती की तो हमने उनकी भी खिलाफत की थी। जो हक से दूर जाएगा उसको हम हक पर लाने की कोशिश करेंगे।

उन्होंने तालीम पर भी सवाल उठाए हैं। आबिद की तरह सलमान को लाल बत्ती दिलाने के लिए यह सब किया जा रहा है। मन्नानी मियां ने कहा कि मैं तेरा चाचा हूं इसलिए नाराज हो रहा हूं। इसके अलावा वा’यरल हो रही ऑडियो में यह भी कहा जा रहा है कि मियां ने काम को ही बेच डाला है। ऐसे युवक से मुलाकात की जिसे तुम्हारे वोट की जरूरत नहीं है। सलमान बिना असद मियां की इजाजत के मुख्यमंत्रियों के देते ना हाथ से मुलाकात करने के लिए पहुंचे थे।

वा’यरल ऑडियो में यह बात भी कही है कि काजी उल हिंदुस्तान के पद से इज्जत मियां को इस्तीफा दे देना चाहिए। जमात रजा मुस्तफा संगठन को भंग करके तमाम दस्तावेज खानदान के लोगों को सौपें। गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में ज्यादातर मुस्लिम वोट बैंक समाजवादी पार्टी के साथ ही रहता है लेकिन इस बार प्रदेश में सियासी समीकरण थोड़े बदले हुए हैं।

दरअसल ऑल इंडिया मजलिस इत्तेहादुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी भी प्रदेश में चुनाव लड़ने जा रही है। जिससे कि भारतीय जनता पार्टी का मुस्लिम वोट बैंक हिलने के आसार बन रहे हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *