कांग्रेस के इस दांव से दुष्यंत चौटाला पर बढ़ा समर्थन वापिस लेने का दबाब, 17 विधायकों के…

January 20, 2021 by No Comments

देश में चल रहे कृषि कानूनों के खिलाफ हरियाणा में भाजपा जजपा गठबंधन की सरकार के गिरने के आसार बन रहे हैं। इस कड़ी में अब कांग्रेस की नजर हरियाणा के निर्दलीय विधायकों पर है। दरअसल कृषि कानूनों के खिलाफ जननायक जनता पार्टी और कई निर्दलीय विधायकों ने खट्टर सरकार के खिलाफ मोर्चा खोला हुआ है।

भाजपा के प्रति बढ़ रही नाराजगी को देखते हुए कांग्रेस विधानसभा में गठबंधन सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने की कवायद में जुट गई है। दरअसल केंद्र के विरोध में 3 विधायकों ने सरकार से समर्थन वापस ले लिया है। जिसके बाद कांग्रेस की उम्मीदें और भी बढ़ गई हैं। उम्मीद है कि दुष्यंत चौटाला की पार्टी के भी कई विधायक विधानसभा में गठबंधन की सरकार के खिलाफ जा सकते हैं। इस कड़ी में हरियाणा कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने कहा है कि भाजपा सरकार के रास्ते अब आसान नहीं है।

 

जजपा के अध्यक्ष के तौर पर दुष्यंत चौटाला ने खट्टर सरकार में बने रहने के लिए किसानों के हितों की अनदेखी की है जिसके चलते उनकी पार्टी के विधायक और कई निर्दलीय विधायक उनके खिलाफ हो चुके हैं। इसी बीच नेता प्रतिपक्ष एंव पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र्र सिंह हुड्डा पहले ही राज्य सरकार के खिलाफ विधानसभा में अविश्वास प्रस्ताव पेश करने का ऐलान कर चुके हैं।

कांग्रेस का मानना है कि दुष्यंत चौटाला सरकार का साथ नहीं छोड़ेंगे, ऐसे में उनके विधायक बगावत का रास्ता अपना सकते हैं। अविश्वास प्रस्ताव इसी रणनीति का हिस्सा है, ताकि किसानों के मसले पर जजपा और कितने समय तक भाजपा का दामन थामे रह सकती है?

जजपा के कुछ विधायक अपनी पार्टी के खिलाफ रुख अपनाते हैं, तो निर्दलीय विधायक भी पाला बदल सकते हैं। हरियाणा में मनोहर लाल सरकार को जजपा के 10 और सात निर्दलीय विधायकों का समर्थन हासिल है। इंडियन नेशनल लोकदल के नेता अभय सिंह चौटाला के किसानों के समर्थन में विधानसभा से इस्तीफा देने के ऐलान से भी उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला पर दबाव बढ़ा है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *