राजस्थान में चल रही सिया’सत ने एक नया मोड़ ले लिया है हाल ही में राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट फिर से अशोक गहलोत के साथ मिल गए हैं। राजस्थान कांग्रेस एक बार फिर अपनी एकता बनाये रखने में कामयाब रही। वहीं कुछ दिन पहले राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा कांग्रेस के बा’गियों से कहा गया था कि, अगर वे आलाकमान से मा’फी मांग लें तो वह उनको दोबारा शामिल कर लेंगे। वहीं कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला द्वारा रविवार को कहा गया कि, सचिन पायलट को अपनी स्थिति साफ करें और बातचीत करें। कांग्रेस की तरफ से ये दावा किया गया की, राजस्थान में गहलोत की सरकार को कोई संक’ट नहीं है और 14 अगस्त को होने वाले विधानसभा सत्र में बहुमत सिद्ध कर देगी। मीडिया से बात चीत पर कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला द्वारा राजस्थान के संक’ट पर कहा गया कि, “सचिन पायलट को बातचीत करने जरूर आना चाहिए। वो पहले अपनी स्थिति साफ करें तभी उनकी वापसी कोई बातचीत संभव हो सकती है।”

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला से जब ये बात पुछि गयी कि, सचिन पायलट के खिला’फ क’ठोर शब्दों का इस्तेमाल कर चुके अशोक गहलोत क्या दोबारा बा’गियों को शामिल करने के लिए तैयार हो जाएंगे इस पर उन्होंने कहा कि, सरकार गि’राने की साजिश के दौरान भी “भावनाओं को ठेस’ पहुंचाने वाली बाते कही गई हैं। रणदीप सुरजेवाला ने बताया कि, अशोक गहलोत जी ने बहुत ही जिम्मेदार तरीके से काम किया है। उन्होंने कहा कि, “बीजेपी के साथ मिलकर उनकी सरकार गि’राने की सा’जिश के दौरान उनकी भावनाओं को जो ठेस पहुंची है उस दौरान उनकी की ओर से दिए गए बयानों की आलोचना को विराम देना चाहिए।

कांग्रेस नेता से जब सवाल किया गया कि, राजस्थान में कांग्रेस के साथ कितने विधायक हैं? उन्होंने जवाब में कहा कि, उनके पकस 102 विधायक हैं। लेकिन इससे पहले सुरजेवाला ने 109 विधायकों के समर्थन की बात कह चुके हैं। जैसलमेर में जहां कांग्रेस के विधायकों को होटल में रखा गया है, वहां मीडिया से बातचीत में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि, उनको बा’गियों से कोई समस्या नहीं है अगर वे पार्टी आलाकमान से मा’फी मांग लेते हैं। गहलोत ने कहा कि पार्टी आलकमान जो भी कहेगा वो उसे मानेंगे। चल रहे विवाद में सचिन पायलट और उनके साथ 18 विधायकों ने बगा’वत कर दी है। इसके बाद से राजस्थान में कांग्रेस सरकार संक’ट में आ गई है। मगर सचिन पायलट द्वारा ये साफ कह दिया गया कि, वह बीजेपी में शामिल नही हो रहे हैं। इस बीच कांग्रेस की ओर से कई बार उनको संदेश भेजा गया है लेकिन उन्होंने अभी तक पत्ते नहीं खोले हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.