कांग्रेस प्रियंका गांधी को देगी बड़ी ज़िम्मेदारी, गांधी परिवार अब..

May 18, 2022 by No Comments

2024 लोकसभा चुनाव में यूँ तो अभी दो साल का समय है लेकिन कांग्रेस और भाजपा दोनों ही इस चुनाव के सन्दर्भ में प्लानिंग करने में लग गए हैं. कांग्रेस पार्टी ने हाल ही में एक चिंतन शिविर किया और उसमें कई अहम् फ़ैसले लिए गए. ख़बर है कि कांग्रेस ने ये योजना बनाई है कि छोटा या बड़ा हर चुनाव कांग्रेस पूरी ताक़त से लड़ेगी और भाजपा को हर जगह चुनौती देने की कोशिश करेगी.

चिंतन शिविर से पहले बहुत से लोग ये कह रहे थे कि गांधी परिवार को कांग्रेस की अध्यक्षता नहीं करनी चाहिए लेकिन गांधी परिवार अपना पूरा कण्ट्रोल पार्टी पर अभी भी बनाए हुए है. ख़बरों की मानें तो कांग्रेस प्रियंका गांधी को राज्यसभा भेज सकती है. राहुल गांधी और सोनिया गांधी पहले ही लोकसभा के सदस्य हैं.

प्रियंका गांधी को राज्यसभा भेजे जाने के पीछे तर्क ये है कि कर्णाटक से प्रियंका को राज्यसभा भेजा जाए. इससे राज्य में कांग्रेस को फ़ायदा होगा. दक्षिण का कर्णाटक एकमात्र राज्य है जहाँ भाजपा सत्ता में है. यहाँ भाजपा को कांग्रेस से सीधे चुनौती मिलती रही है. अगर इस तरह का फ़ैसला लिया जाता है तो कांग्रेस को मज़बूती मिल सकती है.

पार्टी ने अब तक इसको लेकर कोई अधिकारिक घोषणा नहीं की है. सूत्रों का कहना है कि कर्नाटक के कांग्रेस नेता मानते हैं कि इंदिरा गांधी और सोनिया गांधी ने कर्नाटक से चुनाव लड़कर सशक्त राजनीतिक मैसेज दिया था जिसका फायदा पार्टी को मिला. इसलिए प्रियंका गांधी को कर्नाटक से ही राज्यसभा के लिए भेजा जाना चाहिए.

उल्लेखनीय है कि राज्यसभा की 57 सीटों पर 10 जून को चुनाव होना है. विभिन्न राज्यों से इसके लिए सदस्य निर्वाचित होंगे. इसमें कर्नाटक और राजस्थान दोनों जगहों से स्थानीय कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी को राज्य सभा भेजने की मांग कर रहे हैं. दरअसल पार्टी ने राजस्थान की जिन 4 राज्यसभा सीटों पर चुनाव होना है उसमें संख्याबल के हिसाब से कांग्रेस तीन सीटों पर जीत हासिल कर सकती है. लेकिन इसके लिए भी कांग्रेस को कुछ निर्दलीय विधायकों के समर्थन की जरूरत पड़ेगी.

राजस्थान से कांग्रेस अपने वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आज़ाद को राज्यसभा भेज रही है. इसके आलावा कई अन्य नेता भी राजस्थान से राज्यसभा जाने की जुगत लगा रहे है. बात अगर प्रियंका की करें तो उनके नाम पर शायद ही कोई असहमति जताएगा. हालाँकि अभी पार्टी के शीर्ष नेतृत्व ने इस पर कोई फ़ैसला नहीं किया है.

Leave a Comment

Your email address will not be published.