कोरो’ना वाय’रस वैश्विक महामा’री ने दुनिया के ज़्यादा तर देशो को अपने संक्रम’ण से बेहाल कर रखा है और अगर बात करे भारत की तो कोरो’ना वाय’रस यह भी अपने पैर पसारता जा रहा है कोरो’ना वाय’रस संक्रम’ण से पूरे देश में 2 लाख 86 हज़ार से ज्यादा लोग संक्रमि’त हो चुके है और वही अगर COVID 19 से देश में मौ’त का आंकड़ा देखा जाए तो ये 8 हज़ार से ज़्यादा लोग अपनी जा’न दे चुके हैं और इसी के चलते केंद्र सरकार ने गुरुवार को यह बात कही के देश मे निश्चित रूप से कम्यूनिटी ट्रांसमिशन नही हो रहा है बताया जा रहा है कि इंडियन कॉउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्चर(ICMR) के महानिदेशक बलराम भार्गव ने कहा, ” यहां तक कि भारत WHO की कम्यूनिटी स्प्रेड की परिभाषा भी नही है, और उन्होंने यह भी कहा कि भारत मे कम्यूनिटी ट्रांसमिशन नही हो रहा है, और शब्द “कम्युनिटी स्प्रेड” को लेकर सभी जगह बहस की स्तिथि बनी हुई है और तो और स्वास्थ्य मंत्रालय रोज़ाना हो रही प्रेस कॉन्फ्रेंस मे यह दावा किया गया है।

इसी बात को लेकर इंडियन कॉउंसल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) का कहना है, सेरो-सर्वेक्षण दर्शाता है कि कोरो’नावाय’रस को नियंत्रित करने में लॉ’कडा’उन और संक्रम’ण को काबू करने के लिए उठाए गए कदम सफल रहे हैं और सूत्रों से पता चला है कि जिन 83 जिलों में सेरो-सर्वेक्षण किया गया वहां ये पाया गया कि वहाँ की 0.73 फीसद आबादी के कोरो’ना वाय’रस के पहले संपर्क में आने के सबूत हैं।

बता दें कि इससे पहले गुरुवार सुबह स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी किए गए आदकड़ो के मुताबिक भारत में इस समय इस वाय’रस से संक्र’मित लोगों की संख्या 2,86,579 हो गई है। वहीं पिछले 24 घंटों की बात करे तो पिछले 24 घंटों में देश में कोरो’ना के 9,996 नए मामले सामने आए हैं जिसमें से 357 लोगों की मौ’त भी हो चुकी है जिसके चलते पूरे देश में इस वाय’रस से म’रने वाले की संख्या 8,102 हो चुकी है। हालाकि देश में अब तक 1,41,029 लोग इस वाय’रस की चपे’ट से मुक्त भी हो चुके है। रिकवरी रेट में मामूली बढ़ोतरी देखने को मिली है। यह 49.21 प्रतिशत पर पहुंच गया है।

वहीं केंद्र सरकार के मुताबिक बताया जा रहा है कि अब तक 52,13,140 सैंपल टेस्ट किए जा चुके हैं और पिछले 24 घंटों में 1,51,808 सैंपल टेस्ट किए गए। बता दें कि देश के लगभग सभी राज्यों से इस वाय’रस से संक्र’मित लोगों की पुष्टि हो रही है। बहुत से राज्य ऐसे भी है जो इस वाय’रस से मुक्त हो चुके है लेकिन प्रवासियों के राज्य में दाखिल होने से वह फिर से इस संक्रम’ण की जद में आ गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.