कोरो’ना संक्र’मण को फैलने से रोकने के लिए सरकार अपनी तरफ से पूरी कोशिश कर रही है। इसी के चलते उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (chief minister of uttar pradesh yogi adityanath) ने प्रदेश के हर थाना, चिकित्सालय, राजस्व न्यायालय/तहसील, विकास खंड और जेल में कोविड हेल्प डेस्क (COVID Help Desk) की स्थापना करने के निर्देश दिए हैं। और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि कोविड हेल्प डेस्क (COVID HELP DESK) पर COVID 19 के संक्रम’ण से कैसे बचाव किया जाए इससे संबंधित सावधानियों के पोस्टर लगाए जाएं और साथ में यह भी कहा गया कि COVID HELP DESK पर पल्स ऑक्सीमीटर, इंफ्रारेड थर्मामीटर और सैनेटाइजर उपलब्ध भी होने चाहिए। इस बात का भी ख्याल रखा जाए कि जो भी कर्मी COVID HELP Desk पर काम करे वो अच्छी तरह से प्रशिक्षित हो और इन कर्मियों को मास्क और ग्लब्स भी उपलब्ध कराए जाएं।

उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोक भवन उच्च स्तरीय बैठक में अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा मंगलवार को कर रहे थे। योगी आदित्यनाथ ने यह भी कहा कि, “यह सुनिश्चित किया जाए कि कोविड हेल्प डेस्क पर हमेशा एक से दो कर्मी अनिवार्य रूप से उपलब्ध रहें। COVID HELP DESK का रोज सुबह से शाम तक संचालन किया जाए। प्राइवेट अस्पतालों को भी कोविड हेल्प डेस्क की स्थापना के लिए प्रेरित किया जाए। उन्होंने स्थापित की गईं कोविड हेल्प डेस्क की सूची उपलब्ध कराने के भी निर्देश दिए हैं।” उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री ने ये भी निर्देश दिए है कि जनपदों में भेजे जाने वाले विशेष सचिव स्तर के अधिकारियों को जनपदों में रहकर स्वास्थ्य व्यवस्थाओं को और बेहतर करने में संबंधित मुख्य चिकित्सा अधिकारी को सहयोग प्रदान करें और मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि COVID 19 के आपदाकाल में इन अधिकारियों द्वारा किए जाने वाले अभी कामों का खास रूप से मूल्यांकन किया जाएगा।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोरो’ना की टेस्टिंग की संख्या में लगातार इजाफा किया जाए और सर्विलांस व्यवस्था को और बेहतर करने के आदेश देते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि इस उद्देश्य के लिए जनपदों में विशेष सचिव स्तर के अधिकारी भी भेजे जा रहे हैं और सर्विलांस व्यवस्था को और बेहतर बनाने के बाद मेडिकल टेस्टिंग की संख्या बढ़ाने में भी मदद मिलेगी।

सूत्रों से बताया जा रहा है कि उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अविलंब 1 लाख से अधिक टीम को गठित मेडिकल स्क्रीनिंग के कार्य के लिए निर्देश दिए हैं। उन्होंने ये भी कहा कि इस टीम के द्वारा हर व्यक्ति पर हर हफ्ते मेडिकल स्क्रीनिंग का कार्य किया जाए। और सभी टीम के सदस्यों को खास तौर पर ग्लव्स और मास्क भी मुहैया कराए जाएं। स्क्रीनिंग के दौरान मेडिकल टेस्टिंग के लिए आवश्यकतानुसार सैम्पल भी लिए जाएं और जिन लोगों में कोरो’ना संक्रम’ण के लक्षण पाए जाएं उन लोगों को उपचार के लिए कोविड चिकित्सालय में भर्ती किया जाए और मुख्यमंत्री ने सर्विलांस, मेडिकल टेस्टिंग तथा कोविड हेल्प डेस्क (covid help desk) के कार्यों को तेजी से आगे बढ़ाने के निर्देश दिए हैं।

सुत्रों से बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोविड 19 के अस्पता’लों में बेड की संख्या को भी बढ़ाए जाने का प्रयास भी किया जाए। रेडियो और टेलीविजन के माध्यम से कोविड-19 से बचाव के सम्बन्ध में जागरूकता का निरंतर प्रसार किया जाए। इसी के चलते उन्होंने मास्क लगाने की लिए भी प्रवर्तन कार्रवाई में सघनता लाने के निर्देश देते हुए कहा कि पब्लिक एड्रेस सिस्टम के माध्यम से इसके लिए भी लोगों को इस के लिए भी जागरूक किया जाए जों की एक ज़रूरी चीज़ है।

सूत्रों से ये भी बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री ने निर्देश देते हुए ये भी कहा कि फ्री राशन का काम भी सही ढंग और पूरी तरह से किया जाए। COVID 19 को ध्यान में रखते हुए इससे अपना बचाव करते हुए खाद्यान्न वितरित किया जाए। मुख्यमंत्री ने गौ-आश्रय स्थलों को लेकर कहा कि, “बरसात के मौसम में पशु रोगों के दृष्टिगत गौवंश के स्वास्थ्य के प्रति आवश्यक सावधानियां बरती जाएं। इसी के साथ-साथ अवैध शस्त्रों पर काबू के लिए त्वरित और सघन अभियान संचालित करने के निर्देश भी दिए।”

Leave a Reply

Your email address will not be published.