लखनऊ: कोरो’ना वायरस ने पूरी दुनिया में अपना क़हर ढाया हुआ है. भारत में भी इस बी’मारी ने बड़ी संख्या में लोगों को हताहत किया है. इस बीच एक तरह की अफ़वाह बाज़ार में चल गई है जिसकी वजह से कुछ लोग को’रोना वायरस के लिए ज़रूरी टेस्ट कराने से बच रहे हैं. बताया जा रहा है कि इसका कारण ये है कि जब लोगों को क्वारंटाइन में लेकर जाया जा रहा है तो उनके रिश्तेदारों और चाहने वालों को लग रहा है कि ये हमारे बन्दे को कहीं क़ैद न कर दें.

इस वजह से एक confusion की स्थिति कुछ जगह बन गई है. कई व्हाट्सएप ग्रुप में इस तरह के मैसेजेज़ शेयर किए जा रहे हैं. इन मैसेजेज़ के ज़रिए जो कम पढ़ा-लिखा और न-समझ तबक़ा है वो बहक रहा है और इस वजह से कई जगह डॉक्टरों के साथ बदसलूक़ी की गई है इसी को देखते हुए दारुल उलूम ख़ालिद रशीद फ़िरंगी महली ने मुस्लिम समाज के लिए ‘फ़तवा’ जारी किया है. उन्होंने लखनऊ में कहा कि टेस्ट से न भागें.

उन्होंने ‘फ़तवे’ के ज़रिए कहा कि टेस्ट से न भागें और कोरो’नावा’यरस का ट्रीटमेंट सभी के लिए ज़रूरी है. उन्होंने कहा कि इस बीमा’री को छुपाना जुर्म है. ख़ालिद ने कहा कि अपनी और दूसरों की जान को ख़तरे में डालना इस्लाम में गुनाह है. उल्लेखनीय है कि कोरो’नावायरस ने पूरे देश में बड़े स्तर पर लोगों को अपनी चपेट में लिया है. भारत में 2000 से अधिक लोग इस वायरस से पीड़ित हैं जबकि 58 लोग अपनी जान गँवा चुके हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.