दिल्ली की मीडिया से अलग हैं इन दो एग्ज़िट पोल की रिपोर्ट, ‘सपा गठबंधन को मिलेगी बड़ी जीत..

दिल्ली के चैनलों ने कल जो एग्जिट पोल दिखाया उस पर उत्तर प्रदेश की जनता को भरोसा नहीं हो पा रहा है. एग्जिट पोल की विश्वसनीयता पर सवाल उठने लगे हैं. लोग पूछ रहे हैं कि आख़िर कहाँ से आंकड़े लाते हैं एग्जिट पोल वाले लोग. असल में अधिकतर सर्वे में उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार बनते दिखाई गई है जबकि सपा दूसरे स्थान पर बताई गई है.

अब दो ऐसे भी सर्वे आए हैं जिन्होंने सपा समर्थकों को कुछ सुकून दिया है. इस सर्वे में दावा किया गया है कि राज्य में सपा गठबंधन की सरकार बनने जा रहे है. देशबंधु के एग्जिट पोल में कहा गया था कि समाजवादी पार्टी गठबंधन की सरकार बनने जा रही है। अब एक और सर्वे में राज्य में सत्ता परिवर्तन का अनुमान लगाया गया है। बस दो ही ऐसे सर्वे अब तक दिखे हैं जिसमें सपा गठबंधन की जीत का अनुमान लगाया गया है.

4-पीएम और द पॉलिटिक्स डॉट इन के सर्वे का अनुमान है कि राज्य में इस बार अखिलेश यादव सरकार बनाने में कामयाब हो जाएंगे। सर्वे के मुताबिक, समाजवादी पार्टी को 238 सीटें मिल सकती हैं, वहीं भाजपा के खाते में 157 सीटें जाएंगी। बसपा को छह और कांग्रेस को एक सीट मिलने का अनुमान है। अन्य के खाते में भी एक सीट जा सकती है।

सर्वे का अनुमान है कि 2017 के मुकाबले भाजपा का वोट शेयर भी घट जाएगा। 2017 में भाजपा को 39.67% वोट मिले थे, जो इस बार घटकर 32% रह जाएगा। वहीं, सपा का वोट शेयर 21.82% से बढ़कर 41% तक पहुंचने की अनुमान है। देशबंधु के सर्वे के मुताबिक समाजवादी पार्टी को इस बार 228 से 244 सीटें मिल सकती हैं। वहीं, भाजपा को 134 से 150 सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है। कांग्रेस को एक से नौ, बसपा को 10 से 24 और अन्य के खाते में शून्य से छह सीटें तक जा सकती हैं।

आपको बता दें कि सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने दावा किया है कि इस बार उनकी पार्टी 300 से अधिक सीटें जीतने जा रही है. अखिलेश ने कहा, ‘जनता इस बार डबल इंजन सरकार की पटरियां उखाड़ने के लिए तैयार है। सपा गठबंधन को 300 सीटें मिलना तय है।’ अखिलेश ने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘सातवें और निर्णायक चरण में सपा-गठबंधन की जीत को बहुमत से बहुत आगे ले जाने के लिए सभी मतदाताओं और विशेषकर युवाओं का बहुत-बहुत आभार! हम सरकार बना रहे हैं।’

Leave a Reply

Your email address will not be published.