नई दिल्ली: देश भर में CAA और NRC को लेकर लोग आवाज़ उठा रहे हैं लेकिन दिल्ली का शाहीन बाग़ एक सेंटर बन गया है. यहाँ लोग लगातार धरने पर बैठे हैं. आज शाहीन बाग़ में चल रहे प्रदर्श’न को लेकर पुलिस को अदालत ने एक आदेश दिया है. उच्च न्यायलय ने आदेश दिया है कि दिल्ली पुलिस क़ानून के मुताबिक़ कार्यवाई करे.

कोर्ट के आदेश और प्रदर्श’नकारियों की बेचैनी को समझते हुए आज फिर बॉलीवुड डायरेक्टर एचई अमजद ख़ान शाहीन बाग़ पहुँचे हैं. इसके पहले भी वो यहाँ आये थे. अमजद ख़ान आने वाली ३१ जनवरी को रिलीज़ होने वाली फिल्म “गुलमकई” के निर्देशक हैं. अजमद खान के पहुंचते ही शाहीन बाग़ में प्रो’टेस्ट कर रहे लोगों में और भी जोश देखने को मिला। अमजद खान ने एक समाचार चैनल से बात करते हुए कहा कि एक बार फिर केंद्र की मोदी सरकार पर जमकर हम’ला बोला।

अमजद खान ने CAA पर बात करते हुए कहा कि जिस जनता ने नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री बनाया उसी जनता से अब भारतीय होने का सुबूत मांगा जा रहा है,खान ने आगे कहा कि उन लोगों के पास देश और देश की जनता के लिए कुछ अच्छा काम करने का प्लान है नही ना उनसे कुछ होने वाला है इसलिए अपनी नाकामी छुपाने के लिए मंदिर मस्जिद, हिन्दू मुसलमान, पाकिस्तान और अब CAA NRC में उलझा दिया है। आपको बता दें कि 12 जनवरी को भी अमजद खान मुंबई से दिल्ली पहुंचे थे और जामिया, शाहीन बाग और JNU में हो रहे प्रो’टेस्ट में शामिल होकर CAA को एक घटिया एक्ट बताते हुए केंद्र की सरकार को तानाशाह बताते हुए ह’मलावर रुख अपनाया था।

आज शाहीन बाग पर कोर्ट के आदेश की जानकारी होने पर फौरन फिरसे शाहीन बाग पहुंच गए और प्रद’र्शनकारियों का हौसला बढ़ाया। अमजद संयुक्त राष्ट्र के गुडविल एम्बेसडर भी हैं. वो फाइट में पांच बार के वर्ल्ड चैंपियन,पेंटर और राइटर भी हैं। सबसे ज़्यादा गौर करने वाली बात ये है कि अमजद खान की फ़िल्म ‘गुलमकई’ 31 जनवरी को रिलीज़ हो रही है और ऐसे में CAA के ख़िलाफ़ सड़कों पर उतर कर केंद्र की मोदी सरकार पर हम’ला करना बड़ा रिस्क लेने जैसा है. फ़िल्म गुल मकई की कहानी पाकिस्तान की एक्टिविस्ट ‘मलाला यूसफ़ज़ई’ के जीवन पर आधारित है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.