लखनऊ: उत्तर प्रदेश चुनाव के नतीजे आने के बाद राज्य का राजनीतिक माहौल शांत तो दिख रहा है लेकिन ऐसा लग रहा है जैसे जल्द ही राजनीतिक गतिविधियाँ ज़ोर पकड़ेंगी. भाजपा की जीत के बाद भाजपा तो इसमें लगी है कि नई सरकार का गठन कैसे हो, कौन मंत्री बने और क्या कुछ हो वहीं दूसरी ओर विपक्षी दल विशेषकर सपा आगे क्या क़दम उठाएगी इस पर सभी की नज़र है.

इस बार के विधानसभा चुनाव बहुत ज़ोरदार तरह से लड़े गए. हालाँकि सपा की हार हुई लेकिन सपा ने जिस तरह से भाजपा को चुनौती दी उसकी सराहना उसके विरोधी भी दे रहे हैं. इस बीच सोशल मीडिया पर एक ऑडियो वायरल हुआ है जिसमें दावा किया जा रहा है कि EVM बदली गई थी.

उत्तर प्रदेश चुनाव में वोटिंग के बाद और काउंटिंग से पहले भी इस तरह के सवाल उठे. EVM को लेकर सवाल पहले भी उठते रहे हैं. इस ऑडियो के वायरल हो जाने के बाद सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट किया. अखिलेश ने कहा,”EVM बदले जाने को लेकर एक चुनाव अधिकारी ने किसी से बात की, जो ऑडियो रिकार्डिंग सोशल मीडिया पर चल रही है, माननीय उच्चतम न्यायालय और राष्ट्रपति महोदय उसका संज्ञान लें और सरकार संबंधित व्यक्ति को तुरंत संपूर्ण सुरक्षा दे। किसी एक व्यक्ति का जीवन हमारे लिए सरकार बनाने से ज्यादा अहम है।”

इस ऑडियो में पीठासीन अधिकारी के रूप में ड्यूटी करने का दावा करने वाले एक शख्स कहते सुने जा सकते हैं कि वह उस दिन गाजीपुर के कासिमाबाद में तैनात थे। दूसरा व्यक्ति पूछता है कि आपका ईवीएम बदल दिया गया तो आपको बोलना चाहिए था? इस पर वह कहते हैं, ‘मैंने बोला था… पहले एसओ ने कहा… पहले एसओ ने हड़काना शुरू किया कि 2 मिनट लगेगा मास्टर साहब, नौकरी भी जाएगी और आप जाएंगे जेल।’ इस पर वह मास्टर साहब कहते हैं कि हम लोगों ने इस चीज को देखा भी है। वे जो कहते हैं वो कर भी देते हैं।

वायरल ऑडियो में मास्टर साहब कहते हैं, ‘अब क्या करें, थोड़ा सा… बाल बच्चे हैं। नौकरी बचाने के लिए…. गलत तो किए हैं। हम सपोर्टर नहीं हैं भाजपा के। माहौल और जनता के वोट के हिसाब से सपा ही आनी चाहिए। लेकिन अब तो मुश्किल लग रहा है…. आएगी ही नहीं। मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है। आएगी ही नहीं, हर हाल में नहीं आएगी। बीजेपी की सरकार बनने जा रही है।’

दूसरे व्यक्ति की आवाज़ सुनाई पड़ती है, ‘वोट जब पड़ता है तो वहां से 6 बजे के बाद ईवीएम तो सीआरपीएफ के अंडर में आ जाती है न, वहां से कैसे बदल लेंगे?’ मास्टर साहब कहते हैं, ‘हमीं लोगों के अंडर में आता है। हमारी बात समझिए… स्ट्रांग रूम में पहुंचेगी तब न…।’