नई दिल्ली: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज ब’ड़ा ए’लान कई राष्ट्रीयकृत बैंकों का आपस में वि’लय कर दिया. इस प्रक्रिया के बाद पंजाब नेशनल बैंक देश का दूसरा सबसे ब’ड़ा बैंक हो जा’एगा. यूनाइटेड बैंक और ओरिएण्टल बैंक ऑफ कॉमर्स का पंजाब नेशनल बैंक में विल’य होगा. केनरा बैंक और सिंडिकेट बैंक का भी आ’पस में वि’लय किया जाए’गा. इसी तरह यूनियन बैंक, आंध्रा बैंक और कॉरपोरेशन बैंक का भी विल’य किय़ा जा’एगा.
सीतारमण ने बताया कि इंडिय़न बैंक और इलाहाबाद बैंक का भी आपस में वि’लय होगा. देश में अब राष्ट्रीयकृत बैंकों की संख्या घ’टक’र महज़ 12 रह जायेगी. वित्त मंत्री ने कहा कि सरकार ने जो फ़ैसले लिए थे, उन पर अम’ल की शुरुआत हो गई है. बैंक और NBFC के 4 टाइअप हुए.वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि एनबीएफसी कंपनियों के लिए आंशिक ऋ’ण गा’रंटी योजना ला’गू. 3,300 करो’ड़ रुपये का पूंजी सम’र्थन दिया ग’या है और 30,000 क’रोड़ रुपये देने की तैयारी है.

बैंकों के वाणिज्यिक फै’सलों में सरकार का कोई दख़ल नहीं है. उन्होंने कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों का कुल फंसा कर्ज (एनपीए) दिसंबर 2018 के अंत में 8.65 लाख करो’ड़ रुपये से घटकर 7.9 लाख क’रोड़ रुपये रह गया है. सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में सुधार से लाभ दिखने लगा है क्योंकि 2019-20 की पहली तिमाही में उनमें 14 बैंकों ने मुनाफा दर्ज किया है.

कुल मिलाकर वित्त मंत्री ने चार वि’लय का एलान किया है. पंजाब नेशनल बैंक के साथ ओरिएण्टल बैंक और यूनाइटेड बैंक हो गए हैं. दूसरा वि’लय कैनरा और सिंडिकेट बैंक का हुआ है. तीसरा यूनियन बैंक, आंध्रा बैंक और कारपोरेशन बैंक का हुआ है जबकि इंडियन बैंक और इलाहाबाद बैंक का भी विल’य हो गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.