आप सभी जानते है है की कृषि कानून को लेकर किसान काफी दिनों से आंदोलन कर रहे है सरकार दुवारा बनाए गए कृषि कानून का विरोध कर रहे है सुप्रीमकोर्ट ने भी इस आंदोलन को लेकर कई सरे दिशा निर्देश दिए थे, लगभग 50 दिनों से ऊपर हो चूका है इस आंदोलन को लेकिन अभी तक इसका कोई नतीजा नहीं निकला है सरकार ख़ामोशी इख्तियार कर बैंठी है आज 26 जनवरी को किसानो ने ट्रकटर मार्च का एलान किया था .

वैसे तो ट्रैक्टर रैली का समय 12 बजे दोपहर से शाम 5 बजे तक तय था,लेकिन तीनों बॉर्डर से किसानों की रैली सुबह ही दिल्ली के लिए रवाना हो गयी, बॉर्डर पर किसानों को रोकने के लिए लगाए गए पुलिस बैरकेडिंग को किसानों ने तोड़ दिया गाजीपुर बॉर्डर पर तो किसान और पुलिस आमने सामने आ गयी। किसानों को रोकने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े और लाठीचार्ज किया।

दरअसल, गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों ने बैरिकेड तोड़ते हुए ट्रैक्टर रैली शुरू की। इस दौरान जब किसान नोएडा मोड़ पर पहुंचे तो पुलिस बल ने उन्हें रोकने की कोशिश की। इसके बाद पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े है। साथ ही किसानों पर लाठीचार्ज किया गया।

जानकारी के मुताबिक़, अक्षरधाम से पहले एनएच 24 पर पुलिस ने किसानो को रोकने लिए बैरिकेडिंग की हुई थी, लेकिन कुछ किसानों के हुजूम ने ट्रैक्टरों के साथ बैरिकेडिंग को तोड़कर दिल्ली की तरफ जाने की कोशिश की, इस पर मौजूद पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े और लाठीचार्ज कर दिया। किसानों को वहां से खदेड़ा जा रहा है।

वहीं दूसरी तरफ चिल्ला बॉर्डर पर स्टंट के दौरान ट्रैक्टर पलट गया। बताया जा रहा है कि नोएडा के सेक्टर 14 ए चिल्ला बॉर्डर पर ट्रैक्टर मार्च के दौरान कुछ किसान स्टंट कर रहे थे। जिसमे ट्रैक्टर का बैलेंस बिगड़ने से ट्रैक्टर पलट गया। हादसे में महानगर अध्यक्ष राजीव नागर घायल हो गए। मौके पर मौजूद सैकड़ों की संख्या में किसानों ने ट्रैक्टर को सीधा किया और महानगर अध्यक्ष को बाहर निकाला।

Leave a Reply

Your email address will not be published.