बिहार सियासत में बवाल” भाजपा गठबंधन में दिखी दरार.. आनन फानन में अब..

July 2, 2020 by No Comments

देश में हाल ही में अब बिहार विधानसभा चुनाव 2020 होने वाले हैं। जिसके लिए सभी पार्टियां ज़ोरो शोरों से तैयारियां कर रही हैं। वहीं इसी बीच सियासी गर्मा गर्मी भी शुरू हो गई है। चुनाव से पहले ही भजपा गठबंधन में दरा’र देखने को मिल रही है। दरअसल मामला यह है कि बिहार में लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष चिराग़ पासवान ने अब जनता दल यूनाइटेड यानी जेडीयू के रा’ष्ट्रीय अध्यक्ष और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से सारा हिसाब किताब बराबर करने की ठान ली है। वह इस बात से नाखुश नजर आ रहे हैं की गठबंधन होने के बावजूद भी नीतीश कुमार उन्हें ज़रा भी भाव नहीं दे रहे हैं।

चिराग़ पासवान के करीबियों से इस बात की जानकारी मिली है कि चिराग़ द्वारा फोन करने पर भी नीतीश पल’टकर बात नहीं करते हैं और ना उनकी बातों को माना जाता है। दोनों के बीच तनातनी काफी बढ़ गई है, इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि पिछले कुछ समय में चिराग़ ने नीतीश कुमार को घे’रने की कोशिश की थी। उन्होंने नीतीश को कोटा के छात्रों के मामले और प्रवासी श्रमि’कों के मामले में भी नि’शाना बनाया था। लेकिन अब यह माना जा रहा है कि विधान परि’षद के 12 सीटों के लिए राज्यपाल के चयन से जो खाली जगहें भरी जाएंगी उसमें फैस’ला हो जाएगा कि बिहार में नीतीश कुमार की चलेगी या भाजपा नेता एलजेपी को दो सीटें देंगे।

Nitish Kumar & Chirag Paswan

आपको बता दें कि इस गठबंधन के लिए चिराग़ ने लोकसभा चुनाव में पांच-पांच-दो सीटों का सुझाव दिया था। नीतीश कुमार को इस बात की जानकारी भाजपा स्वरा प्राप्त हुई। पहले कहा जा रहा था कि इस चुनाव में जेडीयू के हिस्से में सात सीटें आएंगी तो वहीं भाजपा को 5 सीटें मिलेंगी। वहीं बुधवा’र यानी 1 जुलाई को भाजपा के महासचिव भूपेन्द्र यादव नीतीश कुमार से मिले थे और माना जा रहा है कि इस मुलाक़ात के दौरान उन्होंने चिराग़ पासवान के बारे में बात की थी। बता दें कि इससे पहले चिराग़ पासवान भूपेंद्र यादव से मिलने दिल्ली गए थे। नीतीश-चिराग़ मतभेद में भाजपा के नेता काफी खुश नजर आ रहे हैं, क्योंंकि इस मतभेद के चलते वह गठबं’धन में मुख्य भूमिका में आ रहे हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *