अरब देशों में अपने शासकों का बहुत सम्मान किया जाता है. खाड़ी देशों में जो अरब देश हैं उनमें अधिकतर में राजशाही है. ये भी एक वजह है कि यहाँ पर शासकों और उनके परिवार वालों का बेहद सम्मान रहता है. इस वक़्त जो ख़बर आ रही है वो संयुक्त अरब अमीरात से है. संयुक्त अरब अमीरात (UAE) के राष्ट्रपति शेख खलीफा बिन जायद अल नाहयान का निधन हो गया है.

उनकी उम्र 73 वर्ष थी. स्टेट न्यूज एजेंसी WAM ने शुक्रवार को इस संबंध में जानकारी शेयर की है. राष्ट्रपति मामलों के मंत्रालय ने भी निधन की पुष्टि की है. शेख खलीफा के निधन पर दुनियाभर के लोगों ने शोक संवेदनाएं जताई हैं. 2019 में शेख खलीफा चौथी बार पांच वर्षीय कार्यकाल के लिए चुने गए थे.

यूएई की सुप्रीम काउंसिल ने उन्हें फिर से राष्ट्रपति चुना था. शेख खलीफा ने 3 नवंबर 2004 से संयुक्त अरब अमीरात के राष्ट्रपति और अबू धाबी के शासक के रूप में जिम्मेदारी संभाल रहे थे. शेख खलीफा को अपने पिता के उत्तराधिकारी के तौर पर चुना गया था.

UAE में 40 दिन का राष्ट्रीय अवकाश

मीडिया रिपोटर्स के मुताबिक, शेख खलीफा काफी दिनों से बीमार चल रहे थे. खलीज टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, शेख खलीफा के निधन पर यूएई में राष्ट्रीय शोक घोषित किया गया है. यूएई में 40 दिन का राष्ट्रीय अवकाश रहेगा. इस दौरान झंडा आधा झुका रहेगा.

देश के दूसरे राष्ट्रपति बने शेख़ ख़लीफ़ा

बताते चलें कि शेख खलीफा का साल 1948 में जन्म हुआ था. वे संयुक्त अरब अमीरात के दूसरे राष्ट्रपति और अबु धाबी के 16वें शासक थे. शेख खलीफा अपने पिता शेख जायद के सबसे बड़े बेटे थे. शेख ने राष्ट्रपति बनने के बाद संघीय सरकार और अबू धाबी सरकार का पुनर्गठन किया था.