कोरो’नावाय’रस की महामा’री के चलते जारी किए गए लॉ’क डा’उन में देश की सभी ट्रेनों और मेट्रो के चलने पर पाबं’दी लगा दी गई थी। ऐसे में खबर मिली है कि नोएडा और ग्रेटर नोएडा (Noida-Greater Noida) में अगले हफ्ते तक मेट्रो (Metro Train) को चलाने की तैयारी की जा रही है। 15 मई को एनएमआरसी (NMRC ) अधि’कारियों ने एक्वा लाइन पर मौजूद स्टेशन और मेट्रो ट्रेन से जुड़ी सभी इंतजा’म को देखते हुए कहा कि सभी तैया’रियां पूरी है और सरकार के आदेश मिलते ही मेट्रो की सेवा’ओं को शुरू कर दिया जाएगा। बता दें कि 22 मार्च से दिल्ली-एनसीआर के साथ साथ देश के सभी राज्यों में मेट्रो की सुवि’धा को बं’द कर दिया गया था। शहर में डीएमआरसी (DMRC) नोएडा रूट पर ब्लू और मजेंटा लाइन पर मेट्रो का संचा’लन करती है जबकि नोएडा-ग्रेनो के बीच एक्वा लाइन पर मेट्रो का संचा’लन एनएमआरसी (NMRC) करती है।

लेकिन लॉ’क डा’उन की वजह से सभी रूट पर मेट्रो की संचा’लन बं’द है। खबरों ने मुताबिक बताया जा रहा है कि लॉ’क डा’उन 4 के शुरू होने के बाद देश में मेट्रो के चलाने की अनुम’ति दी जा सकती है। जिसके चलते डीएमआरसी और एनएमआरसी दोनों ने मेट्रो को चलाने की तैयारियों में लगी हुई है। बताया जा रहा है कि शुक्रवार को एनएमआरसी के आधिकारियों ने बैठक की जिसके चलते आधिकारियों ने स्टेश’न और मेट्रो कोच में जा कर वहां के मौजूदा इंतजा’मों का जाय’जा लिया। बता दें कि स्टेशनों और मेट्रो में पैसेंज’रों के बीच एक दूसरे से नि’श्चित दू’री बनाए रखने का इंतजा’म किया जा रहा है। इसके लिए वो स्टेशन, प्लेटफॉ’र्म और कोच में करीब 10 कर्मचारियों को तै’नात करेंगे जिससे इस वाय’रस से बचा’व के लिए सोशल डिस्टे’न्सिंग और  बाकी के निय’मो का पालन हो सकेगा।

बता दें कि नोएडा-ग्रेनो रूट के लिए 19 ट्रेनें है। जिसमें से 5 ट्रेनों को रि’जर्व में रख कर 14 ट्रेनें रोज़ाना चलाई जाती है। आधिकारियों का कहना है कि लॉ’क डा’उन से पहले शनिवार और रविवार को छो’ड़कर इस लाइन पर व्य’स्त समय में साढ़े सात और बाकी समय में 10 मिनट के अंतरा’ल पर मेट्रो को चलाया जाता था लेकिन अब कुछ समय तक 15-15 मिनट पर मेट्रो चलाई जाएंगी। सोशल डिस्टे’न्सिंग को ध्यान में रखते हुए स्टेशन और प्लेटफॉ’र्म पर बॉक्स बना दिए गए है और लोगों को उन्हीं बॉक्स में खड़े होने की इजा’ज़त होगी। मेट्रो और परिसर में थू’कने वाले के उप्पर 500 से 1 हजार तक का जु’र्माना लिया जाएगा। बता दें कि लिफ्ट से सिर्फ बुजु’र्गों और विक’लांगो को ही जाने की इजा’ज़त होगी। एक बार में लिफ्ट में 3 से ज़्यादा लोग नहीं जा पाएंगे।

रितु माहेश्वरी, एमडी ने कहा कि “मेट्रो चलाने के लिए एनएमआरसी पूरी तरह से तैयार है और सरकार से निर्देश मिलते ही नि’यमों के तहत मेट्रो को चलाना शुरू कर दिया जाएगा। मोबाइल फोन में आरोग्य सेतु एप होने पर ही प्रवेश मिलेगा। हर सवारी को थर्मल स्क्रीनिं’ग के बाद ही यात्रा की अनुमित दी जाएगी। सवारी के चेहरे पर मास्क होना अनि’वार्य होगा। कोरो’ना के लक्षण दिखने पर सफर नहीं करने दिया जाएगा और तुरंत मेडि’कल टीम बुलाई जाएगी।” बताया जा रहा है कि इस लाइन पर 21 स्टेशन हैं जिसमें से 6 स्टेशनों पर काफी भी’ड़ रहती है और उन स्टेशन पर 1 गेट से एं’ट्री और दूसरे गेट से लोगों को ए’ग्जिट किया जाता है। वहीं 15 स्टेशन ऐसे है जहां 1 ही गेट से लोगों की एं’ट्री और ए’ग्जिट करवाई जाती है। बता दें कि अभी तक 1 कोच में 120 लोगों से सफर करने की क्षमता है लेकिन अब सिर्फ 40 से 50 लोग ही सफर कर सकेंगे सभी यात्रियों को एक सीट छो’ड़ कर ही बैठने ही अनुमति होगी और खड़े होने वाले सवारियों को भी दूरी बना कर खड़ा होना पड़ेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.