पटना: बिहार की नीतीश कुमार सरकार अपने आप ही अपनी ता’रीफ़ करने के लिए जानी जाती है. प्रदेश में भले कोई घो’टाला हो, कोई ह’त्या हो या कुछ और लेकिन बिहार सरकार के मंत्रि’यों और ख़ुद नीतीश कुमार पर कोई ख़ास असर नहीं प’ड़ता. कार्यवा’ही के नाम पर बस कुछ कर दिया जाता है लेकिन जब भी रू’ढ़िवादिता दिखाने की बात आती है तो बिहार की स’त्ताधारी पार्टी के नेता कभी पीछे नहीं रहते. कुछ इसी तरह का फ़रमा’न बिहार सरकार ने जारी किया है.

असल में बिहार सरकार ने सचिवालय में कर्मचारियों के ऊपर जींस और टीशर्ट पहनने पर पा’बंदी लगा दी है. राज्य सरकार के अवर सचिव शिव महादेव प्रसाद की ओर से एक आ’देश जारी किया गया है. इस आदे’श में कहा गया है कि पदाधिकारी और कर्मचारी ऑफिस सं’स्कृति के खि’लाफ अनौपचा’रिक ड्रे’स पहनकर ऑफिस नहीं आएंगे. उन्‍हें हर हाल में औपचारिक परिधा’न में ही कार्यालय आना होगा.

उल्लेखनीय है कि सामान्य प्रशासन विभाग ने इससे संबंधित एक आ’देश जारी किया है। इतना ही नहीं इसमें पहनावे के रंग को लेकर भी टिप’ण्णी की है. इसमें जो कहा गया है वो हास्या’स्पद भी लगता है. आदेश में कहा गया है कि पदाधिकारी और कर्मचारी सौम्य रंग के शालीन, गरिमायुक्त, आरामदायक, सामान्य रूप से समाज में पहनने योग्य क’पड़े पहन कर ही कार्यालय आये.

आदेश में यह भी कहा गया है कि मौसम, कार्य की प्रकृति और अवसर का ध्यान रखते हुए ड्रेस का चयन करें. बिहार सरकार के अवर सचिव शिव महादेव प्रसाद की ओर से जारी आदेश में कहा गया है, “देखा जा रहा है कि विभाग में कार्यरत पदाधिकारी और कर्मचारी ऑफिस संस्कृ’ति के खिलाफ अनौपचारिक ड्रेस (कैजुअल) पहनकर कायार्लय आ जाते हैं। ऐसा पहनावा कायार्लय की गरिमा के खिला’फ है.”

आदेश में ये भी कहा गया है कि अपे’क्षा की जाती है कि कार्यालय में जींस-टीशर्ट पहन कर नहीं आयेंगे. बिहार सरकार के इस फ़’रमान की आ’लोचना होनी शुरू हो गई है. लोग सवाल कर रहे हैं कि आदेश में ‘शालीन’, ‘गरिमामय युक्त’ से सरकार क्या कहना चाहती है. लगातार हो रही आलोच’नाओं पर बिहार सरकार के किसी अधिकारी की ओर से अभी कोई बया’न नहीं आया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.