मध्य प्रदेश में हुए उपचुनाव के लिए आज एग्जिट पोल के नतीजे आये हैं. 28 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव सरकार के बनने और बिगड़ने के लिहाज़ से बहुत अहम हैं. इन चुनावों में भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया की साख लगी हुई है. कांग्रेस अगर 28 की 28 विधानसभा सीटें जीत जाए तभी ये संभव है कि वो दुबारा राज्य में सरकार बना सकेगी वहीं भाजपा को आठ सीटें जीतनी हैं.

एग्जिट पोल की मानें तो भाजपा यहाँ 16-18 सीटें जीत सकती है जबकि कांग्रेस भी 10-12 सीटें जीत सकती है. ये सीटें भाजपा की सरकार तो बचा लेंगी लेकिन अगर यही हाल रहता है तो ज्योतिरादित्य सिंधिया के गढ़ में कांग्रेस की एंट्री दिख रही है. कमलनाथ के नेतृत्व में कांग्रेस ने यहाँ चुनाव लड़ा है और ये सभी सीटें सिंधिया का गढ़ कही जाती हैं, ऐसे में अगर कमलनाथ कांग्रेस को 10 भी सीटें जिताने में कामयाब रहते हैं तो सिंधिया की पोजीशन भाजपा में कमज़ोर पड़ सकती है.

इंडिया टुडे-माय एक्सिस के एग्जिट पोल में ये बात उभर कर आयी है. इसके साथ ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की पॉपुलैरिटी भी अधिक बताई गई है. मुख्यमंत्री चौहान के पक्ष में 46% लोग हैं जबकि कमलनाथ भी अधिक पीछे नहीं हैं. 43 फीसद लोग मानते हैं कि कमलनाथ मुख्यमंत्री पद की पहली चॉइस हैं.आपको बता दें कि मध्य प्रदेश में विधानसभा की कुल 230 विधानसभा सीटें हैं, जिनमें से 29 सीटें रिक्त हैं.

इनमें से 28 सीटों पर चुनाव हो रहा हैं, जिसके लिहाज से कुल 229 सीटों के आधार पर बहुमत का आंकड़ा 115 चाहिए. ऐसे में बीजेपी को बहुमत का नंबर जुटाने के लिए महज आठ सीटें जीतने की जरूरत है जबकि कांग्रेस को सभी 28 सीटें जीतनी होंगी. मौजूदा समय में बीजेपी के 107 विधायक हैं, जबकि कांग्रेस के 87, चार निर्दलीय, दो बसपा और एक सपा का विधायक है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.