रांची: झारखण्ड में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर सभी पार्टियाँ अपना अपना ज़ोर लगा रही हैं. परन्तु भाजपा अध्यक्ष अमित शाह विधानसभा चुनाव में अपनी पार्टी की तैयारियों से उतना ख़ुश नज़र नहीं आ रहे हैं. हरियाणा और महाराष्ट्र में उम्मीद के मुताबिक़ कामयाबी न मिल पाने की वजह से अब अमित शाह झारखण्ड में और अधिक ज़ोर लगाना चाहते हैं. भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने एक चुनावी जनसभा में कम भीड़ पर चिंता जताई.

उन्होंने चुनावी सभा में कहा कि इतनी भीड़ से चुनाव कैसे जीत पाएंगे, आप मुझे बेवकूफ़ मर बनाइये,मैं भी बनिया हूं। यहां से घर जाकर 25-25 लोगों को फोन करें और भाजपा को वोट देने की अपील करें। शाह ने ये भी पूछा कि यहाँ उपस्थित लोगों में किस किस के पास मोबाइल हैं. उन्होंने कहा कि
जिनके पास मोबाइल है, वे हाथ उठाएं। उन्‍होंने 10-15 हजार लोगों को भाजपा की जीत का रास्‍ता बताते हुए कहा कि गणित मुझे भी आता है। आप सब मिलकर कमल निशान पर बटन दबाने की अपील करो।

शाह ने अपनी जनसभा में कांग्रेस-झारखण्ड मुक्ति मोर्चा के गठबंधन पर भी निशाना साधा. उन्होंने कहा कि हेमंत ने कभी कांग्रेस से यह नहीं पूछा कि उन्‍होंने झारखंड की स्‍थापना के लिए क्‍या किया। 60 साल के शासन में आखिर कांग्रेस ने झारखंड को क्‍या दिया। शाह ने कहा कि अब हमारी सीमा में आलिया-मालिया-जमालिया नहीं घुसता है। अब मौनी बाबा का जमाना नहीं, यह मोदी जी की सरकार है। अमित शाह ने ये भी कहा कि अनुच्‍छेद 370 को खत्‍म कर हमने अपनी मंशा जाहिर कर दी है.

भाजपा अध्यक्ष ने अपनी जनसभा में धार्मिक मुद्दे को भी उठाया. उन्होंने राम मंदिर को लेकर सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद कहा कि अयोध्या में भव्य मंदिर बनने का रास्ता साफ़ हो गया. उन्‍होंने चतरा और गढ़वा में चुनावी सभा को संबोधित किया। झारखंड विधानसभा चुनाव में भाजपा का सीधा मुक़ाबला कांग्रेस-झामुमो गठबंधन से है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.