जैसा कि सबको पता है कि मध्य प्रदेश में पहले कांग्रेस की सरकार थी। बताया जा रहा है कि मध्यप्रदेश में कांग्रेस सरकार गि’रने की वजह भाजपा के केन्द्रीय नेता थे उन्होंने ने ही मध्यप्रदेश से कांग्रेस सरकार को गिराया। बताया ये जा रहा है कि मध्यप्रदेश के मौजूदा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की एक ऑडियो क्लिप जारी हुए है जिसमे कथित तोर पर ये सब बातें कहते हुए सुना गया है और ये ऑडियो मध्यप्रदेश में तेज़ी से वायरल होता जा रहा है हालांकि जनसत्ता किसी भी तरह से वायरल ऑडियो क्लिप की पुष्टि नही करता है।

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के ऑडिओ क्लिप में मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कथित तौर पर हिंदी में कहते हुए सुना गया है कि “केंद्रीय नेतृत्व ने तय किया कि सरकार गिर’नी चाहिए, नहीं तो ये सबकुछ ब’र्बाद कर देगी। मुझे बताओं कि क्या ज्योतिरादित्य सिंधिया और तुलसी भाई के बिना सरकार गिर सकती थी? कोई तरीका नहीं था।” बताया जा रहा है कि इस समय सीएम शिवराज इंदौर के सांवेर विधानसभा क्षेत्र के पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे हैं और साथ ही उन्होंने बीते मंगलवार को उन्होंने क्षेत्र का दौ’रा किया था।

बता दें कि ऑडियो में जो “तुलसी सिलावट” का नाम लिया गया है वो और कोई नहीं बल्कि कांग्रेस के पूर्व मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के वफा’दार है। ये वही नेता है जो कांग्रेस पार्टी छोड़ कर ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ बीजेपी में शामिल हुए थे। बता दें कि काफी अर्सा कांग्रेस में रहने के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया बीजेपी में शामिल हो गए। बताया जा रहा कि ज्योतिरादित्य सिंधिया के पिता माधवराव सिंधिया इंदिरा गांधी और राजीव गांधी के बहुत ही करीबी थे। ज्योतिरादित्य और उनके समर्थकों के कांग्रेस को छोड़ने की वजह से मध्य प्रदेश में कमलनाथ की सरकार गिर गई थी। गौर करने वाली बात तो ये है कि सिंधिया कांग्रेस पार्टी को छोड़ने से पहले 19 साल पार्टी में शामिल रहे।

इधर कथित ऑडियो क्लिप के वायर’ल होने पर कांग्रेस प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि भाजपा हमेशा से ही कांग्रेस द्वारा लगाए गए आरो’पों को झु’ठलाती रही, हालाकि सभी ने देखा कि किस तरह बीजेपी द्वारा विधायक बेंगलुरु में बं’धक बनाए गए और उनके साथ भाजपा नेता भी मौजूद थे। बता दें कि उनकी कुछ तस्वीरें भी सामने आई मगर कल तो प्रदेश के सीएम शिवराज चौहान ने खुद इंदौर के रेसीडेंसी कोठी में सांवेर के कार्यकर्ताओं की एक बैठक में सार्वजनिक रूप से यह स्वीकार कर कांग्रेस के उन आरो’पों पर मोहर लगा दी है। उन्होंने कहा कि अब इस बात की पुष्टि हो चुकी है कि भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व भी इस साजि’श में शामिल थे और उनकी ही साजि’श की वजह से मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार गिरी। सरकार गि’राने के लिए सिंधिया का साथ इसलिए लेना पड़ा क्योंकि बिना सिंधिया के ये सरकार गिरा’ना लगभग नामुम’किन था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.