कानपुर ह’त्याकां’ड के आरो’पी विकास दुबे एनका’उंटर में मा’रा गया था। वहीं अब पु’लिस के हाथ कानुपर ह’त्याकां’ड (Kanpur Shootout) का एक और आ’रोपी पु’लिस की ग’रिफ़्त में आ गया है। कानपुर में आठ पु’लिसक’र्मियों की ह’त्या करने वाले विकास दुबे (Vikas Dubey) के साथी उमाकांत शुक्ला (Umakant Shukla) द्वारा सरें’डर (Surrender) कर दिया गया है। उमाकांत शुक्ला शुक्रवार को खुद ही अपनी पत्नी और अपनी बेटी के साथ चौबेपुर थाने पहुंच कर पु’लिस के आगे सरेंड’र (Surrender) कर दिया। पु’लिस थाने आते वक़्त उमाकांत ने अपने गले मे एक तख्ती लटकाई हुई थी। उस तख्ती पर खुद के विकास दुबे का साथी होने और कानपुर कां’ड के बाद आ’त्मग्लानि की बात कही गई। उमाकांत शुक्ला ने पु’लिस से रह’म की गुहार लगाई और कहा कि में सरें’डर करने आया हूं।

उमाकांत शुक्ला द्वारा पु’लिस से कहा गया कि, “मेरा नाम उमाकांत शुक्ला उर्फ गुड्डन है। कानपुर कां’ड में मैं विकास दुबे के साथ शामिल था। मुझे पकड़ने के लिए रोज पु’लिस छापे’मारी कर रही है, जिससे मैं बहुत ड’रा हुआ हूं। हम लोगों द्वारा जो घ’टना की गई थी, उसकी हमें बहुत आ’त्मग्लानि है। मैं खुद पु’लिस के सामने हाजिर हो रहा हूं। मेरी जा’न की रक्षा की जाए, मुझ पर र’हम किया जाए।”
इसी दौरान उमाकांत शुक्ला की बेटी ने पु’लिस से हाथ जोड़ कर कहा कि मेरे पापा सरेंड’र करने आये हैं उन पर र’हम किया जाए।

2/3 जुलाई 2020 की रात को कानपुर के बिकरु गांव में खतरनाक अप’राधी विकास दुबे को पकड़ने के लिए पु’लिस वहां गयी और छान बीन शुरू की तभी इस दौरान विकास दुबे और उसके साथियों द्वारा पु’लिस पर बुरी तरह बेर’हमी से फाय’रिंग से हमला किया, जिसमे आठ पु’लिस कर्मियों के साथ एक सीओ की भी मौके पर ही मौ’त हो गई थी।कानपुर में हुई इस कां’ड ने उत्तरप्रदेश सरकार को हिला कर रख दिया। कुछ दिन बाद ही विकास दुबे द्वारा उज्जैन के महाकाल मंदिर में सरेंड’र कर दिया गया था। इसके बाद कानपुर लाते समय विकास दुबे का एनका’उंटर हो गया। वहीं विकास दुबे के कई और साथी भी एनका’उंटर में मा’रे गए, कुछ गिर’फ्तार होकर जे’ल में हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.