बेंगलुरु: कर्णाटक सियासी ड्रामा अभी ख़त्म होने वाला नहीं है, कुछ ऐसा ही महसूस हुआ आज सदन की कार्यवाई के बाद. विधानसौदा की कार्यवाई के दौरान कई बार ऐसा मौक़ा आया जब ऐसा लगा कि मामला अभी इतनी जल्दी शांत नहीं होगा. स्पीकर ने फ़िलहाल सदन की कार्यवाई कल तक के लिए स्थगित कर दी गई है. कांग्रेस और जेडीएस ने आरोप लगाया था कि उनके विधायक को भाजपा ने अगवा किया है जिसको लेकर कांग्रेसी विधायकों ने चित्र भी दिखाया.

इस बीच कर्णाटक के राज्यपाल वजुभाई वाला ने कर्णाटक के मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी को ख़त लिखकर कहा कि वो कल 1:30 बजे तक सदन में बहुमत सिद्ध करें. इसके पहले राज्यपाल ने स्पीकर को निर्देश दिया था कि आज ही विश्वास मत पर वोटिंग कराई जाए लेकिन स्पीकर ने कार्यवाई को कल तक के लियी स्थगित कर दिया है।

इसके पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता डीके शिवकुमार ने कहा कि उनकी पार्टी के विधायकों को ख़तरा है। वहीं स्पीकर रमेश कुमार ने कांग्रेस के विधायक श्रीमंत पाटिल के उस पत्र पर जिसमें उन्होंने लिखा है कि वो बीमार हैं, कहा कि मैं किस तरह का स्पीकर हूँगा अगर मैं इस डॉक्यूमेंट को सही मान लूँ जबकि इसमें न तो लेटरहेड है न तारीख़।

कर्नाटक कांग्रेस के अध्यक्ष दिनेश गुंडु राव ने सदन में कहा कि विधायक जिस रिसोर्ट में ठहरे थे उसके बग़ल में अस्पताल था लेकिन उन्हें (श्रीमंत पाटिल) को चेन्नई और फिर मुम्बई इलाज के लिए ले जाया गया? वो सेहतमंद हूं…उनके साथ कुछ नहीं हुआ, ये भाजपा का षड्यंत्र है। भारतीय जनता पार्टी के कुछ नेताओं ने राज्यपाल वाजुभाई वाला से मुलाक़ात की थी और ये माँग भी की थी कि राज्यपाल स्पीकर को ये निर्देश दें कि वोटिंग आज ही हो। राज्यपाल में इसके बाद स्पीकर को ये निर्देश दिए थे कि विश्वास मत पर कार्रवाई आज ही हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published.