देश भर में चल रहा किसान आंदोलन थमने का नाम नहीं ले रहा। वहीं हरियाणा में चल रहे किसान आंदोलन के बीच राज्य की खट्टर सरकार पर अब संकट के बादल छा गए हैं। माना जा रहा है कि यह कांग्रेस के लिए हरियाणा में एक और बढ़िया मौका हो सकता है। अगर कांग्रेस जजपा को अपने की में में खींच लेती है। तो उसे एक दो निर्दलीय विधायकों का भी समर्थन मिल सकता है। जिससे राज्य में एक बार फिर से कांग्रेस की सरकार बन सकती है।

इस संदर्भ में हरियाणा कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष कुमारी शैलजा ने मौका संभालते हुए सोशल मीडिया के जरिए यह ट्वीट किया है कि अपनी अंतरात्मा की आवाज को सुनते हुए JJP, निर्दलीय व BJP के किसान हितैषी विधायकों को इस ‘किसान-मजदूर विरोधी’ हरियाणा सरकार से अपना समर्थन वापिस लेते हुए किसानों के हकों की इस निर्णायक लड़ाई में धरातल पर उतरकर उनका साथ देना चाहिए। किसानों को न्याय दिलाना ही हमारा परम कर्तव्य है।

मीडिया रिपोर्ट्स की मानी जाए तो कांग्रेस नेता कुमारी शैलजा को पता है कि जैसे ही कुछ निर्दलीय, कुछ जजपा और कुछ भाजपा के विधायक हरियाणा सरकार से समर्थन वापस लेंगे, वैसे ही सरकार गिर जाएगी और उसके बाद इन विधायकों को अपने खेमे में मिलाकर कांग्रेस हरियाणा में सरकार बना लेगी। कुमारी शैलजा ने अपनी चाल चल दी है, अब देखना है कि सरकार में शामिल ये विधायक उनकी बात मानते हैं या नहीं।

आपको बता दें कि हरियाणा में इस वक्त किसान आंदोलन जोरों शोरों से चल रहा है। जिनके समर्थन में राज्य की 40 खाप पंचायतें भी आ गई है। कल निर्दलीय विधायक सोमवीर सांगवान ने खट्टर सरकार को अपना इस्तीफा सुनते हुए सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया है। खाप पंचायतों का कहना है कि वह राज्य के विधायकों से यह अपील कर रहे हैं कि वह खट्टर सरकार को दिया गया समर्थन वापस ले और राज्य में सरकार गिरा दे।
साभार- वायरल क्लिक

Leave a Reply

Your email address will not be published.