जब लालू यादव बोले, “भाजपा के झांसे में मत आना…” किसानों पर ख’तरा आया तो आ’ग…

March 18, 2021 by No Comments

मोदी सरकार द्वारा लाए गए कृषि कानूनों को लेकर किसान संगठनों का ग’तिरो’ध जारी है। बीते 3 महीने से ज्यादा वक्त से किसान प्र’दर्श’नकारी दिल्ली की सीमाओं पर डटे हुए हैं सरकार और किसान संगठन अपने तर्कों से पीछे हटने के लिए तैयार नहीं है। इसी बीच विपक्षी दलों ने भी किसानों को अन्नदाता करा देते हुए किसान संगठनों का समर्थन किया है।

दरअसल केंद्र में कांग्रेस से लेकर बिहार में मुख्य विपक्षी दल राष्ट्रीय जनता दल तक इस आं’दोलन का हिस्सा बन चुका है। राजद नेता तेजस्वी यादव तो कृषि कानूनों के वि’रोध में बिहार में प्रदर्शन और ध’रना तक आयोजित करवा चुके हैं। गौरतलब है कि यह पहली बार नहीं था। जब राजद ने इस तरह से किसानों का समर्थन किया है।

आज से 9 साल पहले राजद अध्यक्ष लालू यादव ने लोकसभा में खड़े होकर आ’क्रामक बयान दिया था। उस दौरान लोकसभा में एफडीआई को लेकर बहस चल रही थी जहां केंद्र की सत्ता में यूपी की सरकार एफडीआई के पक्ष में खड़ी थी। वहीं विपक्ष में बैठी एनडीए ने इसका जमकर विरो’ध किया था। सदन में राजद अध्यक्ष और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री इस मामले में भाषण देते हुए इतना गु’स्सा हो गए थे कि उन्होंने यह तक कह डाला था कि अगर देश के किसान दुकानदार पर कोई भी खतरा आया। अगर यह उनके एंटी हुआ तो राजद सारी दुकान में आग लगाकर खत्म कर देगी।

आपको बता दें कि उस दौरान एफडीआई का समर्थन करते हुए लालू ने कहा था कि देश में जब पूंजी आएगा, तो 100 फीसदी किसान खेती करेगा और पैदावार बढ़ेगा। जो मॉल आएगा, उसके रुकने की गारंटी रहेगी। उसमें काम करने वालों को पेंशन मिलेगी। लालू ने भाजपा नेताओं पर निशाना साधते हुए कहा था कि नेसकैफे कॉफी पीने वाले इसका विरोध कर रहे हैं।

हमारा दल और हम सरकार के सुधार का समर्थन करते हैं। हम देश के किसानों, मजदूरों और नौजवानों से अपील करते हैं कि भाजपा के झां’से में नहीं आना।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *