कोरो’नावाय’रस के बचा’व के लिए जारी किया गया लॉ’क डा’उन 4.0 अब ख़’त्म होने वाला है। जिसके चलते प्रधानमंत्री कार्यालय पिछले बीते 64 दिनों से लॉ’क डा’उन की पूरी समी’क्षा करने में व्य’स्त है। बता दें कि गृह मंत्रालय और स्वा’स्थ्य मंत्रालय द्वारा मौजूदा हालातों को देखते हुए 1 जून से अपनाई जाने वाली सभी रणनी’तियों को अं’तिम रूप दिया जा रहा है। भारत के एक बड़े आधिकारी ने बताया है कि “पिछले कई दिनों से यहां लगातार समीक्षा की जा रही है लेकिन आखिरकार यह एक राजनीतिक फ़ैसला होगा कि राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन कानून को जारी रखना है, या राज्यों को एक जून से अंतिम रूप देना है कि वे किस तरह से आगे बढ़ना चाहते हैं।”

उन्होंने बताया कि निर्णय पीएमओ द्वारा राज्य प्र’शासन से प्राप्त डाटा और फीड बैक पर आधारित होगा और साथ ही केंद्र द्वारा स्व’तंत्र रूप से एकत्रित किए गए डाटा को अधिकारी स्कैन भी कर रहे हैं। पिछले 12 दिनों के आंकड़ों को देखते हुए केंद्र सरकार काफी परे’शान है। बता दें कि बीते 12 दिनों में देश में कोरो’नावायरस के पॉज़ि’टिव मामलों और लोगों को क्वारं’टाइन करने में दुगना इज़ाफा हुआ है। लॉ’क डा’उन को लेकर सरकार काफी परे’शान है क्यों कि लॉ’क डा’उन अब ज़्यादा समय तक जारी नहीं रखा जा सकता। गतिविधियां और इकॉनामी बेशक से धीरे-धीरे खोलने की जरूर’त है।

वहीं विप’क्षी दल कोरो’नावाय’रस के बचा’व के लिए बनाई गई सभी योजनाओं का वि’रोध कर रहे है। ये कार्य इतना मु’श्किल इसलिए है क्योंकि सभी राज्यों के मख्यमंत्रियों ने केंद्र सरकार को पिछले 64 दिनों में कई बार अपना रुख बदलने पर मज’बूर किया है। हर बार अपनी राय रख के सरकार को अपनी नी’तियों को बदलने पर मजबूर किया है। एक रिपोर्ट के मुता’बिक बताया जा रहा है कि भारत में इस समय इस वाय’रस से संक्र’मित लोगों की संख्या 147284 हो गई है। वहीं अब तक 2281250 लोगों क्वारंटा’इन कर रखा है। एक अधिकारी का कहा कि “प्रवासी श्रमिकों के आंदो’लन, अंतरराष्ट्रीय निकासी और घरेलू उड़ानों की शुरुआत ने दोनों संख्याओं को जोड़ा है।” उनका कहना है कि जिन राज्यों में काफी समय बाद ट्रेनों को चलाने की अनुम’ति दी गई है वहीं दोनों आंकड़ों में तेज़ी देखी गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.