Covid 19 के दौरान जारी किए गए लॉ’क डा’उन 4 की अव’धि 31 मई को स’माप्त हो रही है। इस लॉ’क डा’उन के ख़’त्म होते ही सरकार लॉ’क डा’उन को अगले 2 हफ्ते तक और बढ़ा सकती है। कोरो’ना वाय’रस की इस महामा’री को रो’कने के लिए लॉ’क डा’उन को कुछ अलग तरह से बढ़ाया जा सकता है। गृह मंत्रालय के एक शी’र्ष अधिकारी ने बताया कि लॉ’क डा’उन का यह चरण पहले के लॉ’क डा’उन के मुक़ाब’ले काफी अलग होगा।

बता दें कि लोगों की नज़र अभी उन शहरों पर होगी जहां इस वाय’रस के लगभग 70 प्रतिशत मामले मौजूद है। इन बड़े शहरों में दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु, चेन्नई, अहमदाबाद और कोलकाता हैं। इसके अलावा इसमें पुणे, ठाणे, जयपुर, सूरत और इंदौर भी शामिल हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक इन 11 शहरों में कंटेन’मेंट जोन घटा’ए जा सकते हैं। बताया जा रहा है कि लॉ’क डा’उन के चौथे चर’ण के एलान से पहले 30 कं’टेनमेंट जोन बनाए गए थे। लेकिन अब ये संख्या घट’ने की संभा’वना है।

राज्यों में धा’र्मिक स्थलों को खोलने की अनुमति दे दी जाएगी। हालांकि किसी भी तरह के आयोजन या पर्व मनाने की अनुमति नहीं होगी। बता दें कि भारत में इस समय कोरो’नावाय’रस से संक्र’मित लोगों की संख्या अब तक डेढ़ लाख पार कर चुकी है। देश में कोरो’नावाय’रस का केह’र ना थमते हुए अब दुगनी तेज़ी से बढ़ रहा है। स्वा’स्थ्य मंत्रालय की रिपोर्ट के अनुसार भारत में अब 151,767 लोग संक्रमि’त हैं। वहीं देश में मौ’तों का आंकड़ा भी पिछले 16 दिनों में दोगुना होकर 4,337 हो गया है।

कोरो’नावाय’रस के इस बढ़ते संक’ट की वजह से सरकार के लिए चुनौ’ती खड़ी कर दी है और साथ की स्वास्थ्य महकमे पर अत्यधिक दबाव बना रखा है। जिसके चलते पिछले 2 महीने से जारी लॉ’क डा’उन को लेकर काफी सवाल उठाए जा रहे है। लॉ’क डा’उन के चौथे चर’ण में कं’टेनमेंट जोन में बढ़ते मामलों को देख कंटे’नमेंट ज़ोन को छोड़ कर बाकी सभी इलाकों में बसों को चलाने के साथ सभी बाजारों, कार्यालयों, उद्योगों और व्यवसाय को फिर से शुरू करने की अनुमति दी। पिछले हफ्ते, सरकार ने भी सीमित क्षमता में घरेलू उड़ानों के संचालन की अनुमति दी। लॉ’क डा’उन के पांचवें च’रण में धार्मिक स्थल और जिम को खोलने की अनुमति दी जा सकती है।

सूत्रों के मुताबिक बताया जा रहा है कि इस लॉ’क डा’उन में मंदिर और अन्य धार्मिक स्थलों पर पूजा या प्रा’र्थना करने के लिए सोशल डिस्टें’सिग का पालन करना होगा और लोगों का मास्क पहनना भी अनिवार्य होगा। बता दें कि किसी भी धार्मिक आयोजन या पर्व की अनुमति नहीं दी जाएगी। कर्नाटक सरकार ने 1 जून से पहले ही मं’दिर और च’र्च को खोलना का फैसला लिया था। मुख्यमंत्री बी एस येडियुरप्पा ने मीडिया को बताया कि “एक बार केंद्र सरकार मॉल और धार्मिक स्थानों को खोलने की अनुमति दे देती है, तो इसे खोलने या न खोलने का फैसला राज्य सरकार का होगा।” लॉ’क डा’उन के अगले चर’ण में शॉपिंग मॉल्स, सिनेमा हॉल्स, स्कूल, कॉलेज और अन्य शैक्षणिक संस्थानों, और बड़ी संख्या में लोगों की मौजदूगी वाली अन्य जगहों पर रो’क जारी रह सकती है। कुछ राज्यों में स्कूलों को खोलने की मांग की गई थी लेकिन सरकार ने उनकी मांग को फिलहाल खा’रिज कर दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.