महाराष्ट्र में सर’कार बनाने को लेकर चल रही खीं’चता’न में एक बड़ा मो’ड़ आया है। जहाँ राज्यपाल ने भाजपा को सर’कार बनाने का न्योता दिया है और ऐसे में भाजपा को अपना बहुम’त साबि’त करना होगा जबकि हमेशा ग’ठबं’धन में रहने वाली शिवसेना ने इस बार भाजपा के सामने कुछ श’र्तें रख दी हैं जिनको मानने के बाद ही वो भाजपा के साथ ग’ठबं’धन करने पर रा’ज़ी होगी। इसमें सबसे मुख्य श’र्त है कि भाजपा और शिवसेना ढाई- ढाई साल के मुख्यमंत्री बनाने पर रा’ज़ी हों। भाजपा इस बात के लिए तै’यार ही नहीं है।

NCP नेता शरद पवार से मुला’क़ात के बाद शिवसेना ने ये ऐला’न किया था कि वो महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के रूप में शिवसेना के व्यक्ति को बिठाकर बाबा साहेब के सपने को ज़रूर पूरा करेंगे जिसके लिए उन्हें भाजपा की मदद की ज़रूरत नहीं है। वहीं बीती शाम NCP के नेता नवाब मलिक ने कहा था कि अगर भाजपा बहुम’त साबि’त नहीं कर पाती है तो वो सदन में उनके ख़िला’फ़ वो’ट देंगे और भाजपा सर’कार के गि’रने पर वैक’ल्पिक सर’कार बनाएँगे। जहाँ कल तक इस बात को शिवसेना और NCP ग’ठबं’धन की सम्भा’वनाओं की तरह देखा जा रहा था वहीं आज इस मामले में एक नया मो’ड़ आ गया है।

MIlind Devra

कांग्रेस के नेता मिलिंद देवड़ा ने एक बड़ा ब’यान देते हुए कहा कि “महाराष्ट्र में कांग्रेस- NCP को सर’कार बनाने के लिए न्योता मिलना चाहिए।” उनके इस ब’यान से दो बातें ज़ा’हिर होती है कि पहली तो ये कि कांग्रेस शिवसेना के साथ ग’ठबं’धन के लिए विचार नहीं कर रही है और दूसरी ये कि शिवसेना को NCP का साथ नहीं मिल रहा है क्योंकि NCP कांग्रेस के साथ मिलने पर विचार कर रही है। अगर ऐसा होता है तो दो बड़ी पार्टियों के म’तभे’द का फ़ा’यदा सीधे- सीधे दूसरी पार्टी को हो जाएगा। भाजपा और शिवसेना अपने मु’द्दे पर अ’ड़े रह जाएँगे जबकि कांग्रेस और NCP के हाथ स’त्ता आ जाएगी। कांग्रेस के इस नए मो’ड़ के बाद शिवसेना और भाजपा का रू’ख क्या होगा ये देखने की बात है। अभी देवेंद्र फडनवीस के घर में भाजपा के विधा’यकों की बै’ठक चल रही है, इस बै’ठक से क्या उपा’य निकल कर आता है ये जानने के लिए भी अभी इंतज़ा’र करना होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.