कोरो’नावाय’रस की इस महामा’री के दौरान महाराष्ट्र में बार फिर से सिया’सी मामले शुरू हो गए है। ऐसे में खबर है कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने एक मीटिंग रखी है। इस दौरान खबर है कि मुख्यमंत्री उद्धव ने सिया’सी मामलों को देख कांग्रेस संसद राहुल गांधी से कॉल पर बात की है। बता दें कि मंगलवार में राहुल ने कहा था कि महाराष्ट्र में कांग्रेस नि’र्णायक भू’मिका में नहीं है। लेकिन अब राहुल का कहना है कि कोरो’नावाय’रस के इस सं’कट के बीच कांग्रेस राज्य सरकार से साथ है। माना जा रहा है कि ये बयान भाजपा के लिए एक झ’टका है जोकि सोच रही थी कि गठबंधन में दरार पड़ गई है.

बताया जा रहा है कि इसके पहले महाराष्ट्र सरकार पर वि’पक्ष द्वारा कोरो’नावाय’रस से निपटने के तरीकों में सरकार को फेल बताया था और उनके ऊपर आरोप भी लगाया था। जिसके चलते महाराष्ट्र में इन बातों को लेकर काफी गर’मा ग’र्मी हुई। जिसको देखते हुए महाराष्ट्र की पूर्व मुख्यमंत्री नारायण राणे ने राज्यपाल बीएस कोश्यारी से मुलाकात की और राष्ट्रपति शा’सन की मांग की। ऐसे में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने गठबंधन के सह’योगियों से बात करने के लिए ये मीटिंग बुलाई। बता दें कि इस मीटिंग में गठबंधन की तीनों पार्टी शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस भी शामिल हुई। उद्धव ठाकरे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ये मीटिंग कर रहे है और सभी मंत्री और गठबंधन के सहयोगी वीसी के जरिए इस बैठक में जुड़े।

Rahul Gandhi

एनसीपी से अजित पवार और जयंत पाटिल के साथ साथ शिवसेना से सुभाष देसाई, एकनाश शिंदे भी बैठक में मौजूद हैं। वहीं कांग्रेस से बालासाहेब थोराट इस मीटिंग में शामिल हो रहे है। बताया जा रहा है कि महाराष्ट्र में सिया’सी मुद्दों पर तबसे हल’चल तेज हुई जब शरद पवार ने 25 मई की सुबह राज्यपाल बीएस कोश्यारी से मुलाकात की। जिसके बाद इन्होंने देर रात तक मुख्यमंत्री से भी मुलाक़ात की। सबसे ज़्यादा अह’म पवार और कोश्यारी के बीच इस बैठक का समय माना जा रहा था। क्योंकि ये मुलाकात शिवसेना और राज भवन के बीच पिछले दिनों गति’रोध की खबरों के ठीक बाद हुई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.