महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के परिणामों के आने के बाद महाराष्ट्र की सियासत ने पल-पल में जिस तरह से रंग बदले, और एक महीने से ज़्यादा चली सियासी उठापटक और टूट-फूट के बाद एक बिल्कुल ही असंभव सा गठबंधन अस्तित्व में आया। और बीजेपी शिवसेना का बरसों पुराना साथ और हाथ दोनों ही छूट गए। और विधानसभा चुनाव के बाद सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरकर आई बीजेपी, जो पूरी तरह से आश्वस्त थी कि, मुख्यमंत्री पद उसी की पार्टी को मिलेगा वह आज विपक्ष में बैठेगी।

अब महाराष्ट्र विधानसभा का सियासी उलटफेर बीजेपी को सत्ता से बाहर करने का अचूक फार्मूला बन सकता है। ऐसा मानना है आरजेडी नेता रघुवंश प्रसाद का। बता दें कि राजद नेता रघुवंश प्रसाद का कहना है कि अगर बीजेपी को हराना है तो ग़ैर-बीजेपी दलों को एकजुट होना पड़ेगा। राजद नेता रघुवंश प्रसाद ने कहा कि, यदि बिहार में बीजेपी को हराने के लिए महाराष्ट्र फॉर्मूला अपनाया जाए, तो सफलता मिल सकती है।

माना जा रहा है कि, राजद नेता रघुवंश प्रसाद ढके-छुपे शब्दों में राजद और जेडीयू को एक साथ आने का संदेश देना चाहते हैं। इसके अलावा राजद नेता शिवानंद तिवारी ने भी जेडीयू को एक बार फिर से राजद के साथ एकजुट होने का न्योता दिया था। शिवानंद तिवारी ने कहा था कि बीजेपी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के अनुच्छेद 370 और 35A हटाने, राम मंदिर बनाने ,और समान नागरिक संहिता लागू करने के मुद्दे पर नीतीश कुमार क्या करेंगे? उन्होंने कहा कि जब नीतीश कुमार इन मुद्दों पर एनडीए छोड़ेंगे तो आरजेडी उनके साथ मजबूती के साथ खड़ी होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.