मुंबई: महाराष्ट्र के सियासी ड्रामे में अभी कई और मोड़ आ सकते हैं, अगर ये कहा जाए तो इसमें कोई चौंकने वाली बात न होगी. इस पूरे मामले में अब निगाह कांग्रेस पर टिकी हैं. एनसीपी और शिवसेना में रज़ामंदी बन गई है लेकिन कांग्रेस ने अभी तक अंतिम निर्णय नहीं लिया है. महाराष्ट्र कांग्रेस के नेता मानते हैं कि पार्टी शिवसेना-एनसीपी का समर्थन करेगी और शिवसेना का मुख्यमंत्री होगा.

इसको लेकर जब एक सवाल एनसीपी के वरिष्ठ नेता अजीत पवार ने कहा,”हम साथ मिलकर फैसल करेंगे. हमें अभी भी कांग्रेस के जवाब का इंतजार है. उन्होंने कहा हम कोई भी फैसला अकेले नहीं कर सकते हैं. अगर हमें कांग्रेस की तरफ से जवाब मिलता है तो ही हम आगे कुछ सोच सकते हैं. हमारे बीचे कोई दुविधा नहीं है.”

इसके अतिरिक्त एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार को मिलने के लिए दिल्ली बुलाया है. पवार ने विधायकों की बैठक का हवाला देते हुए दिल्ली आने में जताई असमर्थता. इसके पहले ऐसी ख़बर आयी थी कि महाराष्ट्र में शिवसेना को समर्थन देने पर कांग्रेस-एनसीपी की बैठक में देरी होगी. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पहले दोनों ही दलों को सुबह के समय मिलना था लेकिन अब यह बैठक शाम में होने की बात कही जा रही है.

आपको बता दें कि राज्यपाल ने कल शाम को एनसीपी को सरकार बनाने का न्योता दिया है. एनसीपी के पास बहुमत सिद्ध करने को लेकर आज रात साढ़े आठ बजे तक का समय है. इसके पहले राज्यपाल ने शिवसेना को सरकार बनाने का न्योता दिया था लेकिन उसे एक दिन का ही समय दावा सिद्ध करने को दिया था जबकि शिवसेना ने कहा कि उसे और समय चाहिए. सबसे पहले राज्यपाल ने भाजपा को न्योता दिया था, भाजपा को राज्यपाल ने तीन दिन का वक़्त दिया था लेकिन उसने अंतिम दिन समर्थन न मिल पाने की बात कह कर सरकार बनाने में असमर्थता जताई.

Leave a Reply

Your email address will not be published.