अचानक ही मलाला यूसुफ़ज़ई ने लिया ज़िन्दगी का अहम फ़ैसला, पाकिस्तान छोड़ यहाँ…

November 10, 2021 by No Comments

साल 2012 में पाकिस्तानी सोशल एक्टिविस्ट मलाला यूसफजई उस वक्त सुर्खियों में आई। जब तालिबानी आ’तंकियों ने उन पर ह’मला कर दिया था। दरअसल पाकिस्तान में लड़कियों की शिक्षा की हिमायत करने के लिए मलाला यूसफजई पर 11 साल की उम्र में ता”लिबानी आ’तंकी द्वारा उनके सर में गो’ली मा’री गई थी।

जिसके बाद मलाला पूरी दुनिया में लड़कियों की शिक्षा के लिए आवाज उठाने के लिए मशहूर हो चुकी है। इसके लिए उन्हें नोबेल शांति पुरस्कार दिया गया है। खबर सामने आई है कि शादी कर ली उन्होंने सोशल मीडिया साइट ट्विटर पर अपने पार्टनर के साथ कुछ तस्वीरें शेयर करते हुए इसकी जानकारी दी है।

मलाला ने ट्विटर पर अपने आधिकारिक हैंडल से ट्वीट किया कि आज मेरे जीवन का अनमोल दिन है। असर और मैं जीवनभर के लिए शादी के बंधन में बंध गए हैं। इस मामले में उन्होंने ट्वीट में ये भी लिखा कि हमने बर्मिघम में अपने परिवारजनों के साथ एक छोटा निकाह समारोह आयोजित किया। हमें दुआएं दें। हम एक साथ इस सफर को बिताने के लिए उत्साहित हैं।

आपको बता दें कि मलाला यूसुफजई का जन्म पाकिस्तान में हुआ। पाकिस्तान में लड़कियों की शिक्षा की हिमायत करने वाली मलाला यूसुफजई पर तालिबान आ’तंकियों ने 2012 में ह’मला किया। उस वक्त उनकी उम्र 11 साल थी।

लड़कियों की शिक्षा और अधिकारों की ल’ड़ाई लड़ने वाली मलाला पाकिस्तान में आतंकियों के निशाने पर रहीं। स्कूल से घर लौट रही मलाला पर हुआ यह ह’मला घा’तक था, लेकिन मलाला का हौंसला भी कम न था। ब्रिटेन में लंबे इलाज के बाद वह ठीक हुईं और एक बार फिर अपने अभियान में जुट गईं।

वह महज 16 साल की थीं जब उन्होंने संयुक्त राष्ट्र (यूएन) मुख्यालय में शिक्षा में लैंगिक समानता की आवश्यकता पर भाषण दिया था। आपको बता दें कि मलाला यूसफजई को इस साल की शुरुआत में भी एक बार फिर से तालिबान द्वारा जान से मा’रने की ध’मकी दी जा चुकी है। लेकिन खास बात यह है कि ये ध’मकी उसी आ’तंकी द्वारा दी गई थी।

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *