शपथ लेते ही ममता बनर्जी ने पलटा चुनाव आयोग का ये फैसला, राज्य में फिर से…

May 6, 2021 by No Comments

पश्चिम बंगाल में तीसरी बार मुख्यमंत्री बनने के बाद ममता बनर्जी ने एक बार फिर से राज्य की सत्ता संभाल ली है। देश में फैली को’रोना म’हामा’री के बीच ममता बनर्जी के राज्य के मुख्यमंत्री बनने के बाद उन पर कई और बड़ी जिम्मेदारियां आ गई है। लेकिन सबसे पहले मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने चुनाव आयोग के एक फैसले को पलट डाला है।

उन्होंने बंगाल के पूर्व डीजीपी और एडीजी कानून व्यवस्था को फिर से बहाल कर दिया है। इसके साथ ही 2 जिलों के डीएम को भी हटा दिया गया है। जिन्हें चुनाव आयोग ने नियुक्त किया था। चुनावों के बाद बंगाल में हुई हिं’सा के आरोपों पर ममता बनर्जी ने पलटवार करते हुए कहा है कि भाजपा जहां पर जीती वहां ज्यादा ग’ड़बड़ी हो रही है।

ममता ने वरिष्ठ आइपीएस ऑफिसर वीरेंद्र को फिर से बंगाल का डीजीपी नियुक्त कर दिया। इससे पहले चुनाव आयोग ने वीरेंद्र को हटाकर नीरज नयन पांडेय को डीजीपी नियुक्त किया था। इसी तरह ममता ने जावेद शमीम को फिर से एडीजी कानून- व्यवस्था बना दिया है।

चुनाव आयोग ने सिविल डिफेंस के डीजीपी जगमोहन को एडीजी कानून व्यवस्था नियुक्त किया था। इसके अलावा पूर्व मेदिनीपुर और पुरुलिया के डीएम को भी बदल दिया गया है। बताया जा रहा है कि चुनाव आयोग ने स्मिता पांडे को पूर्व मेदिनीपुर का जबकि अभिजीत मुखर्जी को पुरुलिया का डीएम नियुक्त किया था।

अब उन्हें हटाकर पूर्णेन्दु कुमार माजी को पूर्व मेदिनीपुर जबकि राहुल मजूमदार को पुरुलिया का डीएम नियुक्त किया गया है। आपको बता दें कि बंगाल विधानसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस की जीत के बाद राज्य में कई जगहों पर हिं’सक घ’टनाएं हुए हैं। इस पर होंडा बनर्जी ने कहा है कि ऐसे ही किसी भी घटना को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि भाजपा जहां जीती है। वहां से ज्‍यादा ग’ड़बड़‍ियों की सूचना आ रही है। भाजपा पुराने वीडियो वा’यरल करके फ’र्जी घटनाओं की खबरें फै’ला रही है। मेरी सभी राजनीतिक दलों से अपील है कि वे ऐसा न करें। आपने चुनावों के दौरान ऐसा बहुत कुछ किया है, लेकिन अब ऐसा नहीं करें। बंगाल एकता का स्‍थान है।

माना जा रहा है कि भारतीय जनता पार्टी को पश्चिम बंगाल में जिस तरह से तृणमूल कांग्रेस ने मात दी है। उससे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह को एक बड़ा झटका मिला है। उनके सारे दावे ममता बनर्जी ने बुरी तरह झूठे साबित कर दिए हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *