लालू के रिहा होते ही बदले मांझी के तेवर, नीतीश कुमार के बाद अब मोदी सरकार को…

May 14, 2021 by No Comments

बिहार की प्रमुख विपक्षी पार्टी राष्ट्रीय जनता दल के संस्थापक लालू प्रसाद यादव हाल ही में जमानत पर रिहा हुए हैं। जिसके बाद से ही यह क्या लगाए जा रहे हैं कि राज्य में सत्तारूढ़ नीतीश सरकार पर संकट के बादल मंडरा सकते हैं। क्योंकि रिहा होने के बाद लालू प्रसाद यादव अपने कई करीबी नेताओं से मुलाकात करेंगे।

जो अब उनकी पार्टी का हिस्सा नहीं है या एनडीए की सहयोगी पार्टियों के नेताओं को अपने पाले में लेने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। बताया जा रहा है कि एनडीए की सहयोगी पार्टी हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के अध्यक्ष जीतन राम मांझी के तेवर कुछ बदले हुए से नजर आ रहे हैं।

दरअसल जबसे लालू प्रसाद यादव की रिहाई की खबर सामने आई है। तब से ही वह नीतीश सरकार के खिलाफ बयान बाजी कर रहे हैं। अब एक बार फिर से देश में फैली कोरोना महामा’री पर सरकारी प्रबंधों को लेकर नीतीश सरकार की आलोचना करने के बाद जीतन राम मांझी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्र सरकार पर निशाना साधा है।

इस संदर्भ में उन्होंने सोशल मीडिया साइट ट्विटर पर लिखा है कि “कई योजनाओं में केन्द्र के हिस्से का पैसा बिहार को नहीं मिल रहा, जिससे सूबे का विकास प्रभावित हो रहा है।

मैं धन्यवाद देता हूं नीतीश कुमार को कि बिना केन्द्रीय मदद के आपने आपदा की इस घड़ी में शिक्षकों का वेतन दिया। साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों के लिए डॉक्टरों की नियुक्ति कर रहें हैं।”इतना ही नहीं जीतनराम मांझी ने सवाल भी उठाए हैं। उन्होंने पूछा कि “क्या आपने नीतीश जी को किसी बैठक में मजबूती से बिहार का हक-हिस्सा मांगते देखा और सुना है।

बाकी प्रदेशों के सीएम ता’र्किक, तथ्यात्मक और आ’क्रा’मक रूप से अपने प्रदेश की समस्याओं, संसाधनों की कमी, केंद्र द्वारा असहयोग इत्यादि को खुल कर व्यक्त करते हैं। लेकिन ये ड’रे स’हमे और दु’बके से रहते हैं।”

गौरतलब है कि बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी की हिंदुस्तान आवाम मोर्चा (हम) एनडीए का हिस्सा है और वह नीतीश सरकार में शामिल है। कहा जा रहा है कि राष्ट्रीय जनता दल के नेता और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के जेल से रिहा होने के बाद से जीतनराम मांझी के तेवर बदल गए हैं और वे कभी भी कोई बड़ा एलान कर सकते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *